कोरोना से जंग के लिए रेलवे की तैयारी, अब नहीं होगी देश में आइसोलेशन वार्ड की कमी

कोरोना वायरस (Coronavirus) के खतरे के मद्देनजर रेलवे (Indian Rail) ने बड़ी तैयारी की है। अगर आइसोलेशन वार्ड की कमी पड़ेगी तो 20 हजार कोच आइसोलेशन वार्ड के रूप में मरीजों को मिलेंगे। इन आइसोलेशन वार्ड में भर्ती होने वाले कोरोना संक्रमित मरीजों को रेलवे के बेस किचन और पैंट्रीकार से खाना उपलब्ध कराया जाएगा। हालांकि रेलवे ने देशभर में स्थित अपने अस्पतालों में करीब सैकड़ों की संख्या में आइसोलेशन बेड की व्यवस्था और जरूरी इंतजाम कर रखे हैं।

Indian Rail

रेलवे (Indian Rail) के अति वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार कोरोना (Coronavirus) की स्थिति को देखते हुए पूर्व में ही व्यापक तैयारी कर ली गई है कि यदि कोरोना का प्रभाव बढ़ता है और राज्य सरकारों को आइसोलेशन वार्ड की जरूरत पड़ती है तो इसके लिए रेलवे के कोच काम आएंगे।

पढ़ें- कोरोना के खिलाफ लड़ाई में उतरी पीएम मोदी की सेना, मंत्रियों को सौंपी राज्यों की जिम्मेदारी

इसके मद्देनजर देशभर के विभिन्न जोनल रेलवे (Indian Rail) में 20 हजार रेल कोचों को सेनिटाइज करके तैयार रखा गया है। एक कोच में चार टॉयलेट होते हैं‚ लिहाजा इसमें ज्यादा संक्रमित मरीजों को रखा जा सकेगा।

इन मरीजों के खानपान के लिए रेलवे (Indian Rail) के बेस किचन से खानपान की व्यवस्था की जाएगी। जरूरत पडी तो रेलवे के पैंट्रीकार आइसोलेशन कोच के आसपास लगा दिया जाएगा‚ ताकि दूर से रेलवे बेस किचन से खाना लाने की जरूरत न पड़े।

इसके अलावा रेलवे (Indian Rail) ने कोरोना वायरस(Coronavirus) के मद्देनजर अपने रेलवे अस्पतालों में पर्याप्त संख्या में आइसोलेशन वार्ड बना रखे हैं। इनमें सैकड़ों की संख्या में बेड लगाए गए हैं। रेलवे का अस्पताल तमाम महानगरों के साथ–साथ सभी मंडल रेल कार्यालय वाले शहरों में और जोनल रेलवे मुख्यालय शहरों में स्थित है ।

इसलिए यदि ज्यादा जरूरत पड़ी तो कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमित मरीज रेलवे अस्पताल और रेल कोच के तौर पर तैयार किए गए आइसोलेशन वार्ड में भर्ती हो सकेंगे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here