यूपी: लखनऊ के प्राइवेट हॉस्पिटल्स में घोर लापरवाही, भर्ती और रेफर किए गए 48 कोरोना मरीजों की मौत

नोटिस के मुताबिक, जिन प्राइवेट हॉस्पिटल्स में लापरवाही सामने आएगी, उनके खिलाफ ऐपिडेमिक ऐक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी।

Coronavirus

लखनऊ के 4 प्राइवेट हॉस्पिटल्स में कुल 48 कोरोना (Coronavirus) संक्रमित रेफर और भर्ती किए गए थे, इलाज के दौरान इन सभी की मौत हो गई। इतनी बड़ी संख्या में कोरोना से हुई मौतों ने शहर में हड़कंप मचा दिया है।

यूपी की राजधानी लखनऊ में कोरोना (Coronavirus) ने तांडव मचाया हुआ है। लगातार संक्रमितों के आंकड़े बढ़ते ही जा रहे हैं। यहां के प्राइवेट हॉस्पिटल्स में तो कोरोना मामलों में घोर लापरवाही सामने आई है।

दरअसल लखनऊ के 4 प्राइवेट हॉस्पिटल्स में कुल 48 कोरोना संक्रमित रेफर और भर्ती किए गए थे, इलाज के दौरान इन सभी की मौत हो गई। इतनी बड़ी संख्या में कोरोना से हुई मौतों ने शहर में हड़कंप मचा दिया है। डीएम ने नोटिस जारी कर बुधवार सुबह तक इन हॉस्पिटल्स से स्पष्टीकरण मांगा है।

नोटिस के मुताबिक, जिन प्राइवेट हॉस्पिटल्स में लापरवाही सामने आएगी, उनके खिलाफ ऐपिडेमिक ऐक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी।

कहा जा रहा है कि जिन मरीजों की मौत हुई है, उन्हें जब एडमिट किया गया था, तब उनकी कोरोना जांच नहीं की गई थी। मरीज के भर्ती होने के बाद जब उनकी तबीयत बिगड़ी, तब उनकी कोरोना जांच हुई और वह पॉजिटिव पाए गए।

ये भी पढ़ें- COVID-19: भारत में कोरोना के मामलों की संख्या पहुंची 56 लाख के पार, 24 घंटे में आए 83,347 नए केस

कई हॉस्पिटल्स में ये भी शिकायत आई है कि मरीजों को शिफ्ट करने में देरी हुई, जिससे उनके इलाज पर भी फर्क पड़ा।

डीएम अभिषेक प्रकाश ने इस मामले में कहा है कि शुरुआती जांच में मामला लापरवाही का लग रहा है। हॉस्पिटल्स से जवाब मांगा गया है। नोटिस में पूछा गया है कि आखिर किस वजह से सभी कोरोना संक्रमितों की मौत हुई।

जिन हॉस्पिटल्स को नोटिस भेजा गया है, उनमें अपोलो हॉस्पिटल, मेयो हॉस्पिटल, चरक हॉस्पिटल और चंदन हॉस्पिटल का नाम शामिल है।

ये भी देखें-

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें