8 मीटर दूर तक जा सकती हैं खांसी-छींक की बूंदें, घंटों हवा में रह सकता है कोरोना: रिसर्च

लीडिया बूरूइबा ने आगाह किया कि खांसी या छींक की वजह से निकलने वाली सुक्ष्म बूंदें 23 से 27 फुट या 7–8 मीटर तक जा सकती हैं। इसीलिए कोरोना वायरस (Coronavirus) का प्रसार इतनी तेजी से फैल रहा है।

Coronavirus

कोरोना वायरस (Coronavirus) को फैलने से रोकने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और ‘अमेरिका रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र’ (CDC) के सामाजिक दूरी के मौजूदा दिशानिर्देश पर्याप्त नहीं हैं और खांसी या छींकने से यह वायरस आठ मीटर दूर तक जा सकता है। ‘जर्नल ऑफ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन’ में प्रकाशित अनुसंधान के अनुसार डब्ल्यूएचओ तथा सीडीसी ने इस समय जो दिशानिर्देश जारी किए हैं वे खांसी‚ छींक या श्वसन प्रक्रिया से बनने वाले ‘गैस क्लाउड’ के 1930 के दशक के पुराने पड़ चुके मॉडलों पर आधारित हैं।

Coronavirus
Wearing a simple cloth mask decreases the spread of the virus by 80%. II Photo credit:- Jerome

अध्ययनकर्ता एमआईटी की एसोसिएट प्रोफेसर लीडिया बूरूइबा ने आगाह किया कि खांसी या छींक की वजह से निकलने वाली सुक्ष्म बूंदें 23 से 27 फुट या 7–8 मीटर तक जा सकती हैं। इसीलिए कोरोना वायरस (Coronavirus) का प्रसार इतनी तेजी से फैल रहा है।

पढ़ें- भारत में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में जबरदस्त इजाफा, 24 घंटों में 601 नये केस

प्रोफेसर लीडिया बूरूइबा ने कहा कि मौजूदा दिशानिर्देश बूंदों के आकार की अति सामान्यकृत अवधारणाओं पर आधारित है और इस घातक रोग के खिलाफ प्रस्तावित उपायों के प्रभावों को सीमित कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें