सीएम अरविंद केजरीवाल की तबीयत बिगड़ी, खुद को किया आइसोलेट

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) की तबीयत बिगड़ गई है। सीएम केजरीवाल को हल्का बुखार और गले में खराश की शिकायत है। इसके बाद उन्होंने खुद को आइसोलेट कर लिया है।

CM Arvind Kejriwal

सीएम अरविंद केजरीवाल की तबीयत बिगड़ी।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) की तबीयत बिगड़ गई है। सीएम केजरीवाल को हल्का बुखार और गले में खराश की शिकायत है। इसके बाद उन्होंने खुद को आइसोलेट कर लिया है। अब उनका कोरोना टेस्ट करवाया जाएगा। केजरीवाल को 7 जून से ही बुखार है। कल दोपहर से सारी मीटिंग्स कैंसिल कर दी गई और सीएम केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने किसी से मुलाकात नहीं की।

आम आदमी पार्टी (AAP) के एक प्रवक्ता के मुताबिक, ‘मुख्यमंत्री केजरीवाल ने डॉक्टर से बात की है और इसके बाद कल कोरोना वायरस की जांच कराएंगे।’ बता दें कि मुख्यमंत्री केजरीवाल ने 7 जून को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को भी संबोधित किया था। इसमें उन्होंने दिल्ली की सीमाएं खोलने, अस्पतालों में इलाज समेत कई महत्वपूर्ण ऐलान किए थे।

आप नेता सौरभ भारद्वाज ने बताया कि अरविंद केजरीवाल कल कैबिनेट की बैठक में शामिल हुए थे, उनकी तबीयत थोड़ी ठीक नहीं थी। कैबिनेट में शामिल हुए सभी मंत्रियों ने भी खुद को आइसोलेट कर लिया है। जिन्हें भी आशंका होगी या कोई लक्षण नजर आएंगे वे सभी कोरोना का टेस्ट कराएंगे।

Jharkhand: प्रेम और सद्भाव की मिसाल; अपनों ने छोड़ दिया साथ, मुस्लिम युवकों ने शव को पहुंचाया मुक्तिधाम

बता दें कि इस मीटिंग में केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने बताया था कि 8 जून से यूपी, हरियाणा से जुड़ी हुईं सभी सीमाओं को खोल दिया जाएगा। इसके अलावा दिल्ली के लोग ही सिर्फ दिल्ली के अस्पतालों में इलाज करा पाएंगे, वहीं देश के अन्य हिस्सों से आने वाले लोग दिल्ली में केंद्र सरकार के अस्पतालों में इलाज करा सकते हैं।

गौरतलब है कि कल ही दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने अस्पतालों का बंटवारा कर दिया है। केजरीवाल सरकार की कैबिनेट ने फैसला किया है कि दिल्ली के अस्पताल, चाहे वो सरकारी हों या निजी उनमें अब सिर्फ दिल्लीवालों का ही इलाज होगा। दिल्ली में मौजूद सिर्फ केंद्र के अस्पतालों में दिल्ली से बाहरवालों का इलाज होगा।

Only way for blacks to rise

सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने खुद इसका ऐलान किया था। दिल्ली सरकार को डॉक्टर महेश वर्मा कमेटी ने ये सुझाव दिया था। इसके अलावा दिल्ली सरकार की मानें तो उन्होंने दिल्ली वालों से उनकी राय भी ली थी, और दिल्ली वालों की राय पर केजरीवाल सरकार ने मुहर लगा दी, कि दिल्ली सरकार के अस्पताल में सिर्फ दिल्ली वाले इलाज कराएंगे।

बता दें कि दिल्ली में कोरोना वायरस (Coronaviru) के मरीजों की संख्या काफी तेजी से बढ़ रही है। अभी तक राजधानी में कोरोना के 28,936 मरीज सामने आ चुके हैं। इसके अलावा, यहां 812 लोगों की संक्रमण के चलते जान चली गई है।

यह भी पढ़ें