Cipla ने भी बना ली कोरोना की दवाई, दो दिन में तीन कंपनियों को मिली मंजूरी

भारत की मशहूर दवा कंपनी सिप्ला लिमिटेड (Cipla Limited) ने कोरोना (COVID-19) कोरोना की दवाई बना ली है। सिप्ला भी जल्द ही कोरोना वायरस की दवाई मार्केट में उतारने जा रही है। सिप्ला ने रेमडेसिविर (Remdesivir) के जेनेरिक वेरिएंट ‘सिप्रेमी’ (Cipremi) की पेशकश की है।

सिप्ला(Cipla Limited) से पहले ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स (Glenmark Pharmaceuticals) ने भी कोविड-19 (Covid-19) के लिए FabiFlu नाम की दवा लांच की थीl

सिप्ला(Cipla Limited) से पहले ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स (Glenmark Pharmaceuticals) ने भी कोविड-19 (Covid-19) के लिए FabiFlu नाम की दवा लांच की थीl

भारत की मशहूर दवा कंपनी सिप्ला लिमिटेड (Cipla Limited) ने कोरोना (COVID-19) की दवाई बना ली है। सिप्ला भी जल्द ही कोरोना वायरस की दवाई मार्केट में उतारने जा रही है। सिप्ला ने रेमडेसिविर (Remdesivir) के जेनेरिक वेरिएंट ‘सिप्रेमी’ (Cipremi) की पेशकश की है, जिसे अमेरिकी दवा नियामक यूएसएफडीए (USFDA) ने कोविड-19 (COVID-19) के मरीजों को इमरजेंसी की स्थिति में देने की मंजूरी दे दी है। सिप्ला कंपनी को ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से भी मंजूरी दे दी है।

PTI की खबर के मुताबिक, USFDA ने कोविड-19 के मरीजों का इलाज करने के लिए गिलियड साइंसेज को रेमडेसिविर के इमरजेंसी यूज के लिए इमरजेंसी यूज एप्रूवल (EUA) दिया है। रेमडेसिविर एक मात्र दवा है, जिसे यूएसएफडीए ने कोविड-19 के मरीजों के इलाज के लिए इमरजेंसी की स्थिति में इस्तेमाल की मंजूरी दी है। गिलियड साइंसेज ने मई में सिप्ला के साथ रेमडेसिविर के मैनुफैक्चरिंग और मार्केटिंग के लिए एक गैर-विशेष लाइसेंस समझौता किया था।

जम्मू कश्मीर: सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, दो अलग-अलग मुठभेड़ में 4 आतंकी ढेर

DCGI से मिली मंजूरी के बाद अब कंपनी इस दवा का इस्तेमाल करने के लिए ट्रेनिंग देगी और मरीजों से इस सिलसिले में एक फॉर्म भरवाएगी। पोस्ट मार्केट सर्विलांस के अतिरिक्त कंपनी मरीजों पर चौथे चरण का क्लिनिकल ट्रायल भी करेगी। कंपनी इस दवा की सप्लाई सरकारी व ओपेन मार्केट चैनल के जरिए करेगी। कंपनी ने 21 जून को इस बारे में पूरी जानकारी दी।

इस दवा की पेशकश पर सिप्ला लिमिटेड (Cipla Limited) के प्रबंध निदेशक (MD) वर्ल्डवाइड सीईओ उमंग वोहरा ने कहा, “सिप्ला गिलियड के साथ भारत में मरीजों के इलाज के लिए मजबूत साझेदारी की सराहना करती है। हमने कोविड-19 महामारी से प्रभावित लाखों लोगों की जान बचाने के लिए सभी संभावित तरीकों की तलाश में काफी निवेश किया है और यह पेशकश उस दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।”

इसके साथ ही दो दिन में तीन बड़ी दवा कंपनियों को कोरोना की दवाई बनाने की अनुमति दे दी गई है। बता दें कि इससे पहले, ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स (Glenmark Pharmaceuticals) ने कोविड-19 (Covid-19) के लिए FabiFlu नाम की दवा लांच की। वहीं, दवा कंपनी हेटेरो (Hetero) ने भी 21 जून को रेमडेसिवीर लॉन्च करने का ऐलान किया। भारतीय औषधि महानियंत्रक (DCGI) से मिली अनुमति के बाद कंपनी इस दवा को ‘कोविफोर’ नाम से बाजार में उतारेगी।

इस कंपनी ने बना ली कोरोना की दवा- कीमत महज 103 रुपये प्रति गोली