बीजापुर में पुलिस के हत्थे चढ़ी महिला नक्सली, लूट और आगजनी जैसी वारदात में थी वॉन्टेड

गिरफ्तार नक्सली सोढ़ी पोज्जा आवापल्ली-उसूर मार्ग पर 6 नवंबर, 2018 को यात्री बस को रोक कर यात्रियों और बस परिचालक के पैसे, मोबाइल लूटने एवं बस की आगजनी की घटना में शामिल रही है।

women naxalite,accused,Robbery,arrested,crpf, police, sirf sach, sirfsach.in, महिला नक्सली, बीजापुर पुलिस, जिला बल, सीआरपीएफ, उसूर थाना, न्यायालय बीजापुर, लूट, सिर्फ सच

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में पुलिस ने एक महिला नक्सली को गिरफ्तार किया।

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में पुलिस ने एक महिला नक्सली को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। जिले के उसूर थाना से जवानों की टीम टेकमेटला गांव की ओर सर्चिंग के लिए निकली थी। इस दौरान एक महिला नक्सली पुलिस के हत्थे चढ़ गई। मुखबिर की सूचना के आधार पर टेकमेटला गांव में सुरक्षा बलों की टीम ने इस महिला नक्सली को गिरफ्तार किया। पुलिस के अनुसार, इस महिला नक्सली का नाम सोढ़ी पोज्जा है और वह लूट की घटनाओं में शामिल रह चुकी है।

गिरफ्तार नक्सली सोढ़ी पोज्जा आवापल्ली-उसूर मार्ग पर 6 नवंबर, 2018 को यात्री बस को रोक कर यात्रियों और बस परिचालक के पैसे, मोबाइल लूटने एवं बस की आगजनी की घटना में शामिल रही है। उसूर थाना का पुलिस और सीआरपीएफ की संयुक्त कार्रवाई में उक्त महिला नक्सली को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल हुई है। गिरफ्तार महिला नक्सली को बीजापुर न्यायालय में पेश किया गया।

इससे पहले दंतेवाड़ा पुलिस ने एक नक्सली को गिरफ्तार किया था। दरअसल, पुलिस को सूचना मिली थी कि नागलगुड़ा में नक्सलियों की मौजूदगी है और वो यहां कुछ बड़ी साजिश रच रहे हैं। सूचना मिलने के बाद डीआरजी के लेकिन जवानों के आने की भनक लगते ही नक्सली भाग निकले। लेकिन सुरक्षा बलों ने यहां भीमा नाम के एक नक्सली को पकड़ लिया। भीमा घायल था इसलिए वो वहां से भाग नहीं पाया। इसके बाद भीमा ने पुलिस के सामने बताया कि दरअसल संगठन के लोगों ने पुलिस को फंसाने के लिए यहां गड्ढे खोद रखे थे लेकिन इस गड्ढे में खुद नक्सली भीमा गिर गया।

गड्ढे में गिर कर नक्सली जख्मी हो गया और उसके साथी उसे छोड़कर फरार हो गए। छापेमारी के बाद गड्ढे में गिरे नक्सली को पुलिस ने ही गड्ढे से निकाला था। इसके बाद उसे घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया था। नक्सली भीमा ने खुलासा किया कि जवानों को नुकसान पहुंचाने के लिए नक्सली गड्ढा खोदकर इसके अंदर नुकीली लोहे की सरिया गाड़ते हैं। फिर इसे सूखे पत्तों से ढंक देते हैं। ताकि जंगल में ऑपरेशन पर आने वाला जवान इसकी चपेट में आकर घायल हो जाएं। जाहिर है इस बार नक्सलियों की इस साजिश का शिकार वो खुद बन गए।

पढ़ें: गिरफ्तार पाकिस्तानी आतंकियों ने किया बड़ा खुलासा, इसलिए बेचैन है आतंक का आका पाकिस्तान

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App