Chhattsigarh: सुकमा में 5 लाख का इनामी नक्सली गिरफ्तार, हथियारों का सप्लायर भी धराया

छत्तीसगढ़ (Chhattsigarh) के नक्सल प्रभावित सुकमा (Sukma) जिले में पुलिस को नक्सलियों (Naxals) के खिलाफ बड़ी सफलता मिली है। पुलिस (Police) को नक्सलियों के हथियार सप्लायर और उनके शहरी नेटवर्क का पर्दाफाश करने में सफलता मिली है।

Naxali

सांकेतिक तस्वीर।

छत्तीसगढ़ (Chhattsigarh) के नक्सल प्रभावित सुकमा (Sukma) जिले में पुलिस को नक्सलियों (Naxals) के खिलाफ बड़ी सफलता मिली है। पुलिस (Police) को नक्सलियों के हथियार सप्लायर को गिरफ्तार करने और उनके शहरी नेटवर्क का पर्दाफाश करने में सफलता मिली है। सुकमा पुलिस ने 30 मई को पांच लाख के इनामी नक्सली (Naxali) को पकड़ा है।

गिरफ्तार नक्सली की सूचना के आधार पर हथियार बनाने की फैक्ट्री और हथियार भी बरामद किया गया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, पकड़ा गया नक्सली (Naxali) कटेकल्याण एरिया कमेटी का सदस्य था और उसका नाम पकड़े माड़वी जोगा बताया जा रहा है। पुलिस ने उसकी निशानदेही पर दबिश देकर हथियार सप्लायर के घर से देशी हथियार समेत कई अन्य सामान बरामद किया है।

Coronavirus: भारत में पिछले 24 घंटों में टूटा संक्रमण के नए मामलों और मौतों का रिकॉर्ड

इसे साथ ही नक्सलियों (Naxalites) को हथियार सप्लाई करने वाले व्यक्ति को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। इसका नाम जग्गनाथ बरनई बताया जा रहा है। पुलिस के मुताबिक, इसने अपने घर पर हथियार फैक्ट्री बनाकर रखा था। बता दें कि पूरा देश कोरोना (Coronavirus) के संकट से जूझ रहा है। इस दौरान भी नक्सलियों की कायराना हरकतें बंद होने का नाम नहीं ले रहीं।

इससे पहले, कोंडागांव जिसे में क्वारेंटाइन सेंटर के निरीक्षण में निकली पुलिस की टीम पर नक्सलियों ने हमला कर दिया। पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए फायरिंग की। पुलिस पार्टी को भारी पड़ता देख नक्सली (Naxals) घटनास्थल से भाग खड़े हुए। पुलिस ने मौके से भारी मात्रा में नक्सली सामान बरामद किया।

यह घटना कोंडागांव जिले के धनोरा थाना क्षेत्र की है, जहां थाना प्रभारी आर्म्स एम्युनेशन के साथ नक्सली क्षेत्र के क्वारेंटाईन सेन्टर फुन्डेर, बाड़ागांव और बड़े ओड़गांव चेंकिग के लिए रवाना हुए थे। चेकिंग दौरान तुर्की, हाटचपई होते हुए वापस धनोरा आ रहे थे तभी हाटचपई जंगल के पास पहले से घात लगाकर बैठे नक्सलियों (Naxalites) ने पुलिस पार्टी को जान से मारने और हथियार लूटने की नीयत से फायरिंग कर दी। पुलिस पार्टी ने भी जवाबी कार्यवाही करते हुए फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस पार्टी को भारी पड़ता देख नक्सली जंगल की ओर भाग गए।

यह भी पढ़ें