नक्सली नाशक ‘ऑपरेशन सफाया 01’ से सहमे नक्सली, लोगों को जोड़ने के लिए बैनरों का इस्तेमाल

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित राजनांद गांव जिले से नक्सलियों (Naxals) को खदेड़ने के लिए अभियान तेज कर दिया गया है। एंंटी नक्सल सेल के एएसपी जीएन बघेल ने बताया कि इसके लिए ‘ऑपरेशन सफाया 01’ शुरू किया गया है।

Naxals
सांकेतिक तस्वीर

‘ऑपरेशन सफाया 01’ के तहत बागनदी में 7 नक्सलियों को ढेर किया गया था। इसके बाद मानपुर के बुकमरका में कैंप को ध्वस्त किया गया। जिले के हर इलाके में नक्सलियों के खिलाफ पुलिस का ऑपेरशन जारी है। इधर, जिले के मानपुर से 8 किलोमीटर दूर हाईवे पर नक्सल बैनर लगाया गया है। जिसमें 2 दिसंबर से पीएलजीए सप्ताह मनाने की अपील की गई है। 18 नवंबर की सुबह आसपास के लोगों ने बैनर देखा, जिसके बाद पहुंची पुलिस टीम ने बैनर जब्त कर लिया है।

छत्तीसगढ़: संगठन के शोषण से तंग आकर 4 नक्सलियों ने डाले हथियार

नक्सलियों (Naxals) ने बैनर के माध्यम से 2 से 8 दिसंबर तक पीएलजीए की 19 वी वर्षगांठ मनाने की अपील की है। इसके अलावा ग्रामीणों को नक्सल संगठन से जुड़कर उनके अभियान को मजबूत बनाने के लिए भी सामने आने कहा है। नक्सलियों के बैनर के खबरें मिलते ही एक बार फिर इलाके में दहशत का माहौल बन गया। कोहका इलाके में इसके पहले भी नक्सली कई बार बैनर, पोस्टर और पर्चे फेंक चुके हैं। इधर नक्सली बैनर की खबर सामने आने के बाद पुलिस ने इलाके में सर्च ऑपरेशन भी तेज कर दिया है।

इलाके में पूरे दिन टीम बैनर लगाने वाले नक्सलियों (Naxals) की धर-पकड़ के लिए आसपास के जंगलों और गांवों को खंगालती रही। पुलिस की सक्रियता और नक्सली क्षेत्र में चल रहे सर्च ऑपरेशन के बाद से मानपुर इलाके में नक्सल गतिविधि थम गई थी। लेकिन अपने कमजोर पड़ते साख को बचाने के लिए नक्सली नए-नए पैंतरे अपना रहे हैं।

पढ़ें: कश्मीर की चैन से पाक बेचैन, लोगों को उकसा हिंसा की कर रहा कोशिश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here