छत्तीसगढ़: नारायणपुर में नक्सलियों ने की बुजुर्ग की हत्या

Naxal Attack In Chhattisgarh Village, Raipur, Chhattisgarh, Naxalite Murdered A Villager, raipur, chhattisgarh naxal, naxali, sirf sach, sirfsach.in
छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में नक्सलियों ने की बुजुर्ग की हत्या

छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में झारा थाना के अंर्तगत आने वाले छिनारी गांव में नक्सलियों ने बुजुर्ग ग्रामीण की धारधार हथियार से हत्या कर दिया है। नक्सलियों ने 20 सितंबर की रात इस जघन्य अपराध को अंजाम दिया। मृतक ग्रामीण का नाम सुखलाल गावड़े बताया जा रहा है। करीब एक साल बाद नक्सलियों ने इस गांव में फिर अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए इस घटना को अंजाम दिया है। इस घटना के बाद से पूरे गांव में दहशत का माहौल है। घटना की सूचना के बाद पुलिस ने सर्च अभियान तेज कर दिया है। जानकारी के मुताबिक, इस घटना को अंजाम देने के लिए लगभग दो दर्जन नक्सली रात में गांव आए थे।

इससे पहले, राज्य के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में भी नक्सलियों ने एक ग्रामीण की गला रेत कर हत्या कर दी। दंतेवाड़ा जिले के पुलिस अधिकारियों ने 19 सितंबर को बताया कि जिले के किरंदुल थाना क्षेत्र के पेरपा गांव के पास पुलिस ने ग्रामीण बुधराम ताती का शव बरामद किया। नक्सलियों ने ताती की हत्या गला रेतकर की है। पुलिस अधिकारियों के अनुसार, पुलिस को पेरपा गांव के पास से ताती का शव मिलने की सूचना मिली थी। सूचना के बाद घटनास्थल पर पहुंच कर पुलिस ने ताती के शव को बरामद किया और उसे पोस्टमार्टम के लिए किरंदुल भेजा गया।

पढ़ें: सरकार की पुनर्वास नीतियों से प्रभावित होकर कुख्यात नक्सली ने किया सरेंडर

पुलिस ने घटनास्थल से नक्सलियों द्वारा फेंका हुआ एक पर्चा भी बरामद किया है। नक्सलियों ने इस पर्चे में ताती पर पैसे लेकर पुलिस के लिए मुखबिरी करने का आरोप लगाया है। उन्होंने ताती को जन अदालत में सजा भी सुनाई। वहीं, पुलिस अधिकारियों का कहना है कि ताती का पुलिस के साथ कोई संबंध नहीं था। ताती किरंदुल क्षेत्र के टिकनपाल गांव का निवासी था और वह मजदूरी करता था। पुलिस ने इस हत्या में शामिल नक्सलियों की तलाश शुरू कर दी है। गौरतलब है कि राज्य में नक्सली कई बार निर्दोष लोगों को निशाना बनाते हैं।

ज्यादातर वे गांव वालों पर पुलिस के लिए मुखबिरी करने का इल्जाम लगाते हैं और फिर बेरहमी से मासूम लोगों की हत्या कर देते हैं। हालांकि सुकमा, दंतेवाड़ा और अन्य क्षेत्रों में अधिकांश मौकों पर नक्सलियों की सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ हो जाती है। नक्सलियों के निशाने पर सुरक्षाबल के दस्ते भी रहे हैं। अक्सर नक्सली सुरक्षाबल के काफिले और सुरक्षादल को घात लगाकर अपनी वारदात को अंजाम देते हैं। पर साथ ही लोगों में खौफ पैदा करने के लिए वे इस तरह की कायराना करतूत को अंजाम देते हैं।

पढ़ें: लोहरदगा में हत्या का आरोपी नक्सली गिरफ्तार, लेवी के लिए मारी थी गोली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here