छत्तीसगढ़: नारायणपुर में सुरक्षाबलों ने ध्वस्त किया नक्सलियों का कैंप, जान बचाकर भागे नक्सली

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नारायणपुर में 23 जून को सुरक्षाबलों ने नक्सलियों के कैंप (Naxal Camp) को ध्वस्त कर दिया। अबूझमाड़ के जंगल में लगाए गए इस कैंप से जवानों ने भारी मात्रा में गोला-बारूद, आईईडी सहित अन्य हथियार भी बरामद किए।

Naxal Camp

सर्चिंग के दौरान बरामद नक्सलियों के सामान और हथियार।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नारायणपुर में 23 जून को सुरक्षाबलों ने नक्सलियों के कैंप (Naxal Camp) को ध्वस्त कर दिया। अबूझमाड़ के जंगल में लगाए गए इस कैंप से जवानों ने भारी मात्रा में गोला-बारूद, आईईडी (IED) सहित अन्य हथियार भी बरामद किए। नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना पर जवान सर्चिंग के लिए निकले थे।

हालांकि, इस दौरान नक्सली (Naxalites) घने जंगल का फायदा उठाकर भाग निकले। जानकारी के मुताबिक, ओरछा थाना क्षेत्र के घट्‌टेकाल-डेंगलपुट्‌टी-पाईवेयर जंगल में नक्सलियों (Naxals) के होने की सूचना मिली थी। इस पर डीआरजी (DRG) और एसटीएफ (STF) की संयुक्त टीम को सर्चिंग पर रवाना किया गया।

कैप्टन विक्रम बत्रा: एक परमवीर जो साथी की जान बचाकर खुद शहीद हो गया

सर्चिंग के दौरान डेंगलपुट्टी जंगल में नक्सलियों के बनाया अस्थाई कैंप (Naxal Camp) मिल गया। हालांकि, इससे पहले ही अबूझमाड़ की पहाड़ियों और जंगल में जवानों के सर्चिंग की सूचना मिलने पर नक्सली घने जंगल का फायदा उठा कर वहां से भाग निकले। इसके बाद जवानों ने वहां मौजूद नक्सलयों के कैंप को ध्वस्त कर दिया। कैंप से जवानों ने नक्सलियों के दैनिक उपयोग सामग्री बरामद की।

इसके अलावा, आस-पास के इलाके में सर्चिंग के दौरान जवानों ने नक्सलियों के कैंप (Naxal Camp) से थोड़ा आगे बक्से और पानी की टंकी से भारी मात्रा में डंप किए हथियार जब्त किए। इसमें हथियार, गोला-बारूद, आईईडी, रॉकेट लॉन्चर शामिल हैं। बता दें कि काफी समय बाद अबूझमाड़ इलाके में सुरक्षाबलों को नक्सलियों के कैंप को ध्वस्त करने में कामयाबी मिली है।

यह भी पढ़ें