नक्सलवाद को कुचलने की तैयारी! नक्सली पकड़वाओ 1 करोड़ रुपए का इनाम पाओ

सरकार ने नक्सलियों (Naxals) के खात्मे के लिए बड़ा कदम उठाया है। नई पहल के तहत नक्सलियों की सूचना देने वालों को 1 करोड़ से भी ज्यादा की राशि तक मिलेगी।

Naxals

सांकेतिक तस्वीर।

सरकार ने नक्सलियों (Naxals) के खात्मे के लिए बड़ा कदम उठाया है। नई पहल के तहत नक्सलियों की सूचना देने वालों को 1 करोड़ से भी ज्यादा की राशि तक मिलेगी। दरअसल, छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के जगदलपुर में नक्सलियों की सूचना देने वाले व्यक्तियों को यह गिरफ्तारी नाम की राशि एक करोड़ से 2,50,0000 रुपये तक मिलेगी। बस्तर पुलिस महानिरीक्षक सुंदर राजपूत ने बताया कि नक्सलियों के संबंध में जानकारी देने वाले व्यक्तियों का नाम पता गोपनीय रखा जाएगा।

उन्होंने बताया कि पुलिस द्वारा जारी सूची में 10000000 रुपए के इनामी नक्सली (Naxali) गगन्ना राव गणपति उर्फ रमन्ना राव और वेणुगोपाल और भूपति सहित 34 हार्डकोर नक्सली शामिल हैं। इनमें से नौ पर 40-40 लाख और 17 नक्सलियों पर 500000 का इनाम घोषित है। अर्थात 34 में से 29 नक्सली ऐसे हैं जिन पर एक करोड़ से 25 लाख तक के इनाम घोषित है।

तो उस रात गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प की ये थी वजह…

बस्तर क्षेत्र की पुलिस ने 34 नक्सली नेताओं (Naxali Leaders) की सूची जारी की है। इन नक्सली नेताओं में दो महिला नक्सली भी शामिल हैं। इन पर आठ लाख रूपए से एक करोड़ रूपए के इनाम रखे गये हैं। बस्तर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक सुंदरराज पी. ने बताया कि पुलिस द्वारा जारी इन नक्सली नेताओं की सूची में भाकपा (माओवादी) के पोलित ब्यूरो सदस्य और महासचिव नम्बाला केशव राव उर्फ गगन्ना समेत 34 नक्सली नेताओं के नाम शामिल हैं।

पुलिस ने जिन 34 नक्सली नेताओं की सूची जारी की है, उनमें महासचिव नम्बाला केशव राव उर्फ गगन्ना, पोलित ब्यूरो सदस्य पुपल्ला लक्ष्मण राव उर्फ गणपति, कट्टकम सुदर्शन उर्फ आनंद, मल्लोजुला वेणुगोपाल उर्फ भूपति समेत अन्य नक्सली नेता शामिल हैं। गगन्ना, गणपति, आनंद और भूपति पर एक—एक करोड़ रूपए का इनाम है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि इनमें से नौ नक्सली नेताओं के सिर पर 40 लाख रूपए का तथा 17 नक्सलियों पर 25 लाख रूपए का इनाम है।

चीन से निपटने के लिए भारत ने LAC पर तैनात किया इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप, जानें क्या है इन जवानों की खासियत…

जानकारी के मुताबिक इस सूची को सोशल मीडिया, स्थानीय समाचार पत्रों के माध्यम से सार्वजनिक किया जाएगा तथा गांवों के हाट, बाजार में इनका बैनर, पोस्टर लगाया जाएगा। सुंदरराज ने बताया कि इस सूची के माध्यम से ग्रामीणों को जानकारी मिल सकेगी कि नक्सलियों (Naxals) ने केवल भोलीभाली जनता का खून बहाया है और उनके लिए कुछ भी बेहतर कार्य नहीं किया है।

आपको बता दें कि 4 दिन पहले सरकार के गृह मंत्रालय ने एक एडवाइजरी जारी करते हुए बताया था कि नक्सल प्रभावित क्षेत्र में नक्सली (Naxals) बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते हैं। पुलिस के अलर्ट होने के बाद संभवत बड़े नक्सलियों द्वारा वारदात के मंसूबे पर पानी फिर गया है।

यह भी पढ़ें