Chhattisgarh: दंतेवाड़ा में नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम, जवानों पर हमले के लिए लगाया था बारूदी सुरंग और पेट्रोल बम

दंतेवाड़ा (Dantewada) जिले में सुरक्षाबलों ने नक्सलियों (Naxals) द्वारा की गई बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया है। यहां जवानों ने रिमोट कंट्रोल से संचालित होने वाली चार बारूदी सुरंग (Land Mines) और भारी मात्रा में पेट्रोल बम (Petrol Bomb) बरामद किए।

Land Mines

सुरक्षाबलों ने नक्सलियों द्वारा की गई बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा (Dantewada) जिले में सुरक्षाबलों ने नक्सलियों (Naxals) द्वारा की गई बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया है। यहां जवानों ने रिमोट कंट्रोल से संचालित होने वाली चार बारूदी सुरंग (Land Mines) और भारी मात्रा में पेट्रोल बम (Petrol Bomb) बरामद किए।

दंतेवाड़ा जिले के पुलिस अधिकारियों ने शुक्रवार (15 मई) को यह जानकारी दी। पुलिस के मुताबिक, जिले के बारसूर थाना क्षेत्र के अंतर्गत बोदली और मालेवाही गांव के बच सुरक्षाबलों ने विस्फोटक सामाग्री बरामद की है। अधिकारियों के अनुसार, बोदली और मालेवाही के बीच सड़क निर्माण कार्य की सुरक्षा में डीआरजी (DRG), एसटीएफ (STF) और छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल (CAF) के लगभग तीन सौ जवानों को रवाना किया गया था।

बिहार: जमुई से SSB ने नक्सली को किया गिरफ्तार, युवक की हत्या में था शामिल

इस दौरान जंगल के इलाके से जवानों ने चार बारूदी सुरंग (Land Mines) बरामद किया। सभी बारूदी सुरंग का वजन लगभग पांच-पांच किलोग्राम था। पुलिस अधिकारियों ने के अनुसार, बारूदी सुंरग को बैटरी और एंटीना से जोड़ा गया था और बम के एंटीना को पेड़ में लगाया गया था, जिससे अधिक दूरी से रिमोट कंट्रोल के जरिए उसमें विस्फोट किया जा सके।

बस्तर क्षेत्र में नक्सलियों ने सुरक्षाबलों को निशाना बनाने के लिए पहली बार इस तरह की तकनीकि का इस्तेमाल किया है। पुलिस ने घटनास्थल से बड़ी संख्या में पेट्रोल बम भी बरामद किए हैं। इतनी भारी मात्रा में बारूदी सुरंग (Land Mines) और पेट्रोल बम बरामद होने से यह आशंका जताई जा रही है कि नक्सली सुरक्षाबलों पर बड़े हमले की तैयारी में थे।

Jammu-Kashmir: सुरक्षाबलों ने किया आतंकी ठिकाने का भंडाफोड़, आतंकियों के सहयोगी गिरफ्तार

हालांकि, इससे नक्सलियों के नापाक मंसूबे को नाकाम कर दिया गया। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, सुरक्षाबलों ने सभी विस्फोटक सामाग्रियों को नष्ट कर दिया है। दरअसल, राज्य के नक्सल प्रभावित नारायणपुर जिले के पल्ली गांव से दंतेवाड़ा के बारसूर गांव के बीच सड़क का निर्माण किया जा रहा है। यह सड़क बोदली और मालेवाही गांव से होकर गुजरेगा।

इस क्षेत्र में लगातार नक्सली गतिविधियां होती रहती हैं। बता दें कि सड़क निर्माण कार्य की सुरक्षा के लिए इस क्षेत्र में सुरक्षाबलों के छह शिविरों की स्थापना की गई है। इनमें से बोदली गांव सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है। इस साल इस मार्ग में अब तक पांच से अधिक नक्सली घटनाएं हो चुकी हैं।

यह भी पढ़ें