डीएम और एसपी की हत्या की रची थी साजिश, सुरक्षाबलों ने 3 नक्सलियों को दबोचा

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा (Dantewada) में सुरक्षाबलों को बड़ी सफलता हाथ लगी है। मिच्चीपारा के पास नहाड़ी-ककाड़ी के जंगलों में हुई मुठभेड़ में तीन वर्दीधारी नक्सली गिरफ्तार किए गए। गिरफ्तार नक्सलियों (Naxals) में एक महिला नक्सली भी शामिल है। पकड़े गए नक्सलियों से कलेक्टर और एसपी की हत्या करने और 26 जनवरी के कार्यक्रम में हमला करने की साजिश का भी खुलासा हुआ है। गिरफ्तार नक्सलियों से पता चला है कि ये हाल ही में पोटाली में खुले कैंप पर भी हमला करने की फिराक में थे।

Naxals
नक्सलियों से बरामद सामान और नक्शे।

पूछताछ के दौरान पता चला है कि कलेक्टर और एसपी के वाहन इनके निशाने पर थे। उसे विस्फोट से उड़ाने की साजिश रची गई थी। वहीं, नए खुले पोटाली कैंप में गणतंत्र दिवस के अवसर पर ये नक्सली (Naxals) हमले की फिराक में थे। जानकारी के मुताबिक, अरनपुर क्षेत्र के ग्राम बड़े मिर्चीपारा, उरपलपारा, नहाड़ी, ककाड़ी, सोफीरास और सुकमा के गादीरास क्षेत्र के माटेमपारा में मंलगीर एरिया कमेटी के एलजीएस कमांडर गुड़ाधुर के साथ 20-25  नक्सलियों के होने की सूचना पुलिस को मिली थी। इस सूचना के आधार पर दंतेश्वरी फाइटर्स, डीआरजी, जिला पुलिस, एसटीएफ की संयुक्त टीम मौके पर भेजी गई।

मिच्चीपारा के पास नहाड़ी-ककाड़ी के जंगलों से अचानक घात लगाकर बैठे नक्सलियों (Naxals) ने फायरिंग शुरू कर दी। इस पर जवानों की ओर से भी जवाबी कार्रवाई की गई। थोड़ी देर तक चली मुठभेड़ के बाद जवानों को भारी पड़ता देख नक्सली मौके से भाग निकले। इस दौरान जवानों ने जंगल में घेराबंदी कर एक महिला सहित तीन नक्सलियों (Naxals) को गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए नक्सली वर्दी पहने हुए थे और जवानों को देखते ही उसे उतारकर फेंकने लगे। दंतेवाड़ा में ऐसा पहली बार हुआ है जब पुलिस ने वर्दीधारी नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए नक्सलियों की पहचान एलजीएस डिप्टी कमांडर हड़मा मड़काम उर्फ बुधरा, प्लाटून सदस्य कोसी उर्फ शांति और डीकेएमएस सदस्य देवा मड़काम उर्फ दिलीप के रूप में हुई।

दंतेवाड़ा एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव ने बताया कि पकड़े गए तीनों नक्सलियों (Naxals) के पास से पोटाली कैंप का नक्शा, रास्ते को लेकर विस्फोटक लगाने के तरीके, उड़ते हुए हेलीकॉप्टर को निशाना लगाने के तरीके के नक्शे बरामद हुए। पुलिस के मुताबिक, पकड़े गए तीनों नक्सलियों पर हत्या, लूट, आगजनी जैसे दर्जनों गंभीर आरोप हैं। अधिकारियों के मुताबिक, देवा मड़काम खूंखार नक्सली है और वह उनका मीडिया सेल का काम देखता है। उसे छोटा देवा के नाम से जाना जाता है। पुलिस के अनुसार, नीलवाया में हुए नक्सली हमले में मारे गए दूरदर्शन के कैमरा मैन का कैमरा भी इसी के पास था। करीब 3 महीने तक उस कैमरे को उसने अपने पास रखा, उसके बाद अपने एक अन्य साथी को सौंप दिया।

पढ़ें: ‘हमने नक्सलियों को 20 फीट नीचे गाड़ दिया’ नक्सलियों को गृहमंत्री की अंतिम वार्निंग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here