छत्तीसगढ़: दंतेवाड़ा में मुठभेड़, पुलिस को भारी पड़ता देख डर कर भागे नक्सली

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों (Naxals) और पुलिस जवानों के बीच 16 फरवरी को मुठभेड़ हुई। DRG जवानों और नक्सलियों के बीच मोलसनार के जंगलो यह मुठभेड़ हुई।

Naxals

छत्तीसगढ़: दंतेवाड़ा में मुठभेड़, पुलिस को भारी पड़ता देख डर कर भागे नक्सली

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों (Naxals) और पुलिस जवानों के बीच 16 फरवरी को मुठभेड़ हुई। DRG जवानों और नक्सलियों के बीच मोलसनार के जंगलों में यह मुठभेड़ हुई। सर्चिंग पर निकले जवानों पर दोपहर करीब 1 बजे नक्सलियों ने गोलियां चलानी शुरू कर दी। इसके जवाब में जवानों ने भी फायरिंग की।

Naxals
मुठभेड़ के बाद नक्सलियों के बरामद सामान।

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों (Naxals) और पुलिस जवानों के बीच 16 फरवरी को मुठभेड़ हुई। DRG जवानों और नक्सलियों के बीच मोलसनार के जंगलों में यह मुठभेड़ हुई। सर्चिंग पर निकले जवानों पर दोपहर करीब 1 बजे नक्सलियों ने गोलियां चलानी शुरू कर दी। इसके जवाब में जवानों ने भी फायरिंग की। नक्सलियों और जवानों के बीच करीब 15 मिनट तक गोलीबारी हुई। इसके बाद नक्सलियों की तरफ से फायरिंग बंद हो गई और जवानों को भारी पड़ता देख घनी झाड़ियों में बचते हुए नक्सली भाग निकले।

जानकारी के मुताबिक, पुलिस को 20 से 25 नक्सलियों की मौजूद होने की सूचना मिली था। इस सूचना के आधार पर दन्तेवाड़ा से DRG के जवानों ने घेराबन्दी करने के लिए जवानों की एक टीम निकाली थी। नक्सलियों की मौजूदगी की जानकारी सही निकली। पुलिस को देख नक्सलियों (Naxals) ने गोलियां चलानी शुरू कर दी और मुठभेड़ शुरू हो गई। घटनास्थल से 10 से 12 नक्सलियों के कई सामान बरामद हुए हैं। दन्तेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव ने मुठभेड़ की पुष्टि की है।

पढ़ें: संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता की पेशकश की, भारत ने दिया ये जवाब…

बता दें कि नक्सलियों (Naxals)के खिलाफ पुलिस और सुरक्षाबल लगातार अभियान चला रहे हैं। आए दिन जवानों की नक्सलियों से मुठभेड़ हो रही है। इससे पहले छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा में 15 फरवरी को पुलिस की नक्सलियों के साथ मुठभेड़ हुई थी। इस मुठभेड़ में जवानों ने एक नक्सली को मार गिराया था। जानकारी के मुताबिक, पोलमपल्ली थाना क्षेत्र के अरलमपल्ली के जंगलों में नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना मिली थी। जिसके बाद डीआरजी की टीम को तैयार कर ऑपरेशन के लिए भेजा गया।

अन्य जवान भी सर्चिंग के लिए निकल पड़े। 15 फरवरी की शाम करीब 4.30 बजे जवानों का नक्सलियों से सामना हो गया। दोनों और से गोलीबारी शुरू हो गई। कुछ देर तक चली इस मुठभेड़ में जवानों को भारी पड़ता देख नक्सली जंगल की और भाग गए। इधर जवानों ने आसपास सर्चिंग की तो एक नक्सली (Naxalite) का शव बरामद हुआ। साथ ही एक भरमार बंदूक, हैंड ग्रेनेड और नक्सली का पिट्ठू बैग भी बरामद हुआ। मारे गए नक्सली की पहचान माड़वी सुक्का के रूप में हुई है। वह मिलिशिया कमांडर था।

पढ़ें: सुकमा में मुठभेड़, जवानों ने एक नक्सली को मार गिराया, बंदूक और हैंड ग्रेनेड बरामद

यह भी पढ़ें