छत्तीसगढ़: नक्सलियों ने पुलिसकर्मी के पिता को किया रिहा, जनअदालत में दी चेतावनी

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा (Dantewada) में नक्सलियों (Naxalites) ने पुलिसकर्मी के पिता को छोड़ दिया है। आरक्षक अजय तेलामी के पिता 7 जुलाई की शाम करीब 7 बजे सुरक्षित घर लौट आए।

Naxalites

सांकेतिक तस्वीर।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा (Dantewada) में नक्सलियों (Naxalites) ने पुलिसकर्मी के पिता को छोड़ दिया है। आरक्षक अजय तेलामी के पिता 7 जुलाई की शाम करीब 7 बजे सुरक्षित घर लौट आए। जानकारी के मुताबिक, घर लौटने के बाद वे काफी घबराए हुए हैं।

बताया जा रहा है कि नक्सलियों ने जवान के पिता को जनअदालत में चेतावनी देकर छोड़ा है। इस जनअदालत में नक्सलियों (Naxalites) ने गुमियापाल के गांव वालों को भी बुलाया था। जनअदालत बड़ेपल्ली के जंगलों में लगाया गया था।

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, वे जब गुमियापाल पहुंचे तो काफी घबराए हुए हैं। गौरतलब है कि दंतेवाड़ा जिले में तैनात डिस्ट्रिक्ट रिजर्व गार्ड (डीआरजी) के जवान अजय तेलाम के बुजुर्ग पिता का नक्सलियों ने 6 जुलाई की रात अपहरण कर लिया था। 7 जुलाई की शाम तक उनके बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पाई थी।

यूपी के शहर में कोविड टेस्ट में धांधली, 2500 रुपये में कोरोना निगेटिव रिपोर्ट की गारंटी

पुलिस की टीम और परिजन आसपास के आस-पास के इलाकों में उनकी तलाश कर रहे थे। बता दें नक्सली लीडर (Naxal Leader) कमलेश अपने हथियार बंद दस्ते के साथ गुमियापाल गांव पहुंचा और पुलिस जवान अजय तेलाम के घर से उसके पिता लछु तेलाम को बंदूक की नोक पर अपने साथ ले जाने लगा। जवान के माता-पिता के विरोध करने पर नक्सलियों (Naxals) ने उनके साथ मारपीट भी की।

इसके बाद वे जान से मारने की धमकी देते हुए उन्हें अपने साथ ले गए। परिजनों ने रात में ही इसकी सूचना किरंदुल थाने की पुलिस और अजय को मोबाइल पर दे दी। 7 जुलाई की सुबह पुलिस की टुकड़ियां उनकी तलाश में आसपास के जंगल और पहाड़ी की ओर निकल पड़ीं। बता दें कि, यह जवान पहले नक्सल संगठन (Naxal Organization) से जुड़ा हुआ था। लेकिन नक्सलियों की खोखली विचारधारा से तंग आकर उसने सालभर पहले सरेंडर कर दिया और मुख्यधारा से जुड़ कर पुलिस के लिए काम कर रहा है।

धोखे-धुर्तई की राजनीति दौर में दोस्ती-वचन निभानेवाले नेता थे चंद्रशेखर सिंह

जवान इलाके से परिचित होने के साथ ही नक्सलियों (Naxalites) को भी पहचानता है। वे इन दिनों भटके हुए युवाओं को नक्सल संगठन छोड़ने के लिए प्रेरित कर रहा है। बताया जा रहा है कि नक्सली अजय को संगठन में वापस बुला रहे हैं। दबाव बनाने के लिए ही उन्होंने उसके माता-पिता का अपहरण किया था।

एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव के अनुसार, नक्सली कमांडर कमलेश की अगुआई में गुमियापाल पहुंचे नक्सलियों (Naxalites) ने अपहरण किया था। उसके साथ 31 नक्सली सदस्य भी थे, जिनकी पहचान हो चुकी है। पुलिस की टीम आरक्षक के माता-पिता की तलाश कर रही है। इलाके के लोग पुलिस के संपर्क में आकर नक्सलियों का साथ छोड़ रहे हैं, इसलिए नक्सली नेता बौखलाए हुए हैं।

यह भी पढ़ें