छत्तीसगढ़: नक्सलियों की करतूत, दंतेवाड़ा में सड़क को IED ब्लास्ट कर उड़ाया

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के दंतेवाड़ा (Dantewada) में नक्सलियों ने एक बार फिर उपद्रव मचाया। नक्सलियों (Naxalites) ने जिले के अरनपुर से पोटाली को जोड़ने वाली सड़क को 16 जगहों से काट दिया है।

Naxalites

सांकेतिक तस्वीर।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के दंतेवाड़ा (Dantewada) में नक्सलियों ने एक बार फिर उपद्रव मचाया। नक्सलियों (Naxalites) ने जिले के अरनपुर से पोटाली को जोड़ने वाली सड़क को 16 जगहों से काट दिया है। बताया जाता है कि सड़क को काटने के लिए 150 से ज्यादा नक्सली पोटाली गांव में पहुंचे थे। उन्होंने आईईडी (IED) ब्लास्ट कर सड़क को बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया।

बता दें कि इस सड़क के निर्माण में करीब छह करोड़ रुपये खर्च हुए थे। अरनपुर से पोटाली को जोड़ने वाली इस सड़क पर 13 साल बाद वाहनों की आवाजाही शुरू हुई थी। साल 2007 में नक्सलियों (Naxals) ने यहां बड़ा धावा बोलकर इस सड़क को 40 जगहों से खोद दिया था। इस तरह सड़क को क्षतिग्रस्त करना और विकास कार्यों में बाधा पहुंचाना नक्सलियों (Naxalites) की बौखलाहट को दिखाता है।

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में खुलासा, अफगानिस्तान में मौजूद हैं 6500 पाकिस्तानी आंतकी

दरअसल, पिछले दिनों मुठभेड़ में नक्सलियों के कई टॉप लीडर मारे गए हैं। इसी वजह से नक्सली बौखलाए हुए हैं। नक्सली (Naxals) इस क्षेत्र पर अपनी पकड़ बनाए रखना चाहते हैं। उन्हें मालूम है कि यहां पर हो रहे विकास कार्य उनकी विदाई का संदेश है, इसलिए वे आए दिन ऐसी हरकत करते रहते हैं। उनका मकसद है कि यहां पर कोई भी विकास कार्य न हो।

पोटाली गांव के निकट पुलिस कैंप भी स्थापित किया गया है। इस इलाके में सीआरपीएफ (CRPF) की 111वीं बटालियन और छत्तीसगढ़ पुलिस की एंटी नक्सल यूनिट डिस्ट्रिक्ट रिजर्व गार्ड (DRG) तैनात है। अब यहां पर सड़क भी चालू हो गई थी। इससे आदिवासियों का जीवन बदलने लगा था। स्वास्थ्य एवं दूसरी मूलभूत सेवाएं भी लोगों तक पहुंचने लगी थीं।

पर, नक्सलियों (Naxalites) को विकास कब रास आया है? उन्होंने एक बार फिर उसी सड़क को काट दिया है। अब फिर से अरनपुर, पोटाली, बुरगुम, ककाड़ी, नहाड़ी और सुकमा जिले के गोंडेरास गांव तक का सफर लोगों को पैदल तय करना पड़ेगा। सड़क के काटे जाने की वजह से अब कोई भी सरकारी सुविधा इन गांवों तक नहीं पहुंच सकेगी। बरसात के मौसम में तो यहां के लोगों को अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें