छत्तीसगढ़ सरकार ने कर ली है नक्सलवाद को उखाड़ फेंकने की तैयारी

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए सरकार ने विशेष अभियान चलाने का निर्णय लिया है। इसके तहत पुलिस और सुरक्षा बल के जवानों ने प्रदेश में सक्रिय 21 शीर्ष नक्सलियों की घेराबंदी की तैयारी है। सभी शीर्ष नेता दूसरे प्रदेशों के हैं और पिछले 25 वर्षों से सक्रिय हैं। विशेष अभियान चलाकर इनका खात्मा किया जाएगा। इसके लिए रणनीति बननी शुरू हो गई है। पुलिस प्रदेश में तैनात सुरक्षा बल की अन्य एजेंसियों के साथ मिलकर ये अभियान चलाएगी। इसके लिए सीमावर्ती राज्यों की पुलिस की सहायता भी ली जा सकती है।

राजधानी रायपुर में 29 सितंबर को आयोजित पुलिस दीक्षांत समारोह में सीएम भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) ने बतौर मुख्य अतिथि ये बातें कहीं। इसी दौरान सीएम भूपेश बघेल ने नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर भी सरकार की स्थिति स्पष्ट की। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज कहा कि दिल्ली में हुई बैठक में भी उनके द्वारा ये जानकारी दी गई थी कि नक्सलवाद को रोकने के लिए अन्य प्रदेशों के नक्सली नेताओं को टारगेट करना होगा। यह रायपुर के चंद्रखुरी स्थित छत्तीसगढ़ पुलिस अकादमी (Chhattisgarh Police Academy) का दीक्षांत परेड था।

23 डीएसपी और 12 सब इंस्पेक्टर इस दीक्षांत परेड में शामिल हुए। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के अलावा गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने भी दीक्षांत समारोह में शिरकत की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सभी पुलिस अधिकारियों को शुभकामनाएं दीं। साथ ही प्रदेश में अमन चैन बनाए रखने की जिम्मेदारी इन पुलिस अधिकारियों के कंधों पर होने की बात कही। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने एफएसएल लैब बनाए जाने, पुलिस आफिसर्स मेस और चंद्रखुरी में आदर्श थाना खोलने की भी घोषणा की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here