छत्तीसगढ़: बीजापुर (Bijapur) से महिला समेत तीन वारंटी नक्सली गिरफ्तार

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बीजापुर (Bijapur) जिले में सुरक्षा बलों ने तीन नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। बीजापुर जिले के पुलिस अधिकारियों ने 19 नवंबर को यह जानकारी दी। जानकारी के मुताबिक, बीजापुर (Bijapur) जिले के बासागुड़ा थाना क्षेत्र के अंतर्गत पोलमपल्ली गांव के पास सुरक्षा बलों ने तीन नक्सलियों को गिरफ्तार कर लिया है।

Bijapur
सांकेतिक तस्वीर

बीजापुर (Bijapur) जिले के पुलिस अधिकारियों के अनुसार, बासागुड़ा थाने से जिला बल और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के संयुक्त दल को गश्त के लिए रवाना किया गया था। दल जब पोलमपल्ली थाना क्षेत्र में था, तभी वहां इलाके में दो पुरुष और एक महिला पुलिस दल को देखकर छिपने लगे। बाद में पुलिस दल ने घेराबंदी कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ करने पर उन्होंने अपना नाम पोड़ियम नागेश (26 साल), माड़वी मासे (22 साल) और कड़ती चन्दैया (45 साल) बताया। बीजापुर (Bijapur) के पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पोड़ियम नागेश के खिलाफ एक स्थायी वारंट, माड़वी मासे के खिलाफ दो स्थायी वारंट और कड़ती चन्दैया के खिलाफ तीन स्थायी वारंट हैं।

इससे पहले, छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल प्रभावित बस्तर (Bastar) जिले में एक स्थाई वारंटी सहित दो नक्सलियों को पुलिस ने गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की थी। मामले के बारे में जानकारी देते हुए अधिकारियों ने बताया कि बस्तर (Bastar) महानिरीक्षक, सुंदरराज पी. और पुलिस अधीक्षक दीपक झा के दिशा निर्देश पर फरार एवं स्थाई वारंटियों के धरपकड़ अभियान चलाया जा रहा था। इस अभियान के तहत 13 नवंबर की रात एक स्थाई वारंटी के साथ ही लंबे समय से फरार आरोपी को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इनकी गिरफ्तारी बस्तर (Bastar) के मालेवाडी कैंप ग्राम बोदली थाना घोटिया में सर्चिंग के दौरान हुई। पुलिस के अनुसार, फरार नक्सली स्थाई वारंटी लच्छू राम कश्यप को गिरफ्तार किया गया। वह बस्तर (Bastar) जिले के घोटिया गांव, पुराना स्कूल पारा थाना मारडूम का रहना वाला है।

उसके विरुद्ध अपराध के कई मामले दर्ज हैं, जिनमें धारा 147, 148, 149, 456, 302, 25, 27 आर्म्स एक्ट के अलावा यूएपीए एक्ट शामिल हैं। वहीं, फरार नक्सली धन सिंह को धारा 302, 38(2) यूएपीए एक्ट के तहत गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने बताया कि 31 जुलाई, 2019 को नक्सली धन सिंह ने अपने साथियों के साथ मिलकर सर्चिंग पर निकले सीआरपीएफ के जवानों को नुकसान पहुंचाने के लिए ब्लास्ट किया था। इस हमले में सीआरपीएफ के जवान रोशन कुमार शहीद हो गए थे। जिसके बाद से पुलिस इन दोनों की लंबे समय से तलाश कर रही थी। बीते 13 नवंबर को दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया।

पढ़ें: पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र में फिर उठाया कश्मीर का मुद्दा, खत लिख राज्य के पुनर्गठन का किया विरोध

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here