छत्तीसगढ़: बीजापुर में नक्सलियों ने किया आईईडी ब्लास्ट, एक जवान घायल

पुलिस के मुताबिक, इस हमले में DRG का हेड कांस्टेबल घायल हो गया है। यह घटना बीजापुर कोतवाली क्षेत्र के मनकेली गांव की है। डीआईजी, एंटी नक्सल, पी सुंदरराज के अनुसार, घायल जवान की पहचान नीला उद्दे के रूप में की गई है। यह नक्सली हमला तब हुआ जब डीआरजी की टीम एरिया डोमिनेशन पर निकली थी।

Naxalites, naxal attack, Sukma, Bijapur, Chhattisgarh police, IED blast, DRG, छत्तीसगढ़, बीजापुर, सुकमा, बस्तर पुलिस, सिर्फ सच, sirf sach, sirfsach.in

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में 30 अगस्त को नक्सलियों ने आईईडी (IED) धमाका किया। इस आईईडी धमाके में जिला रिजर्व गार्ड (DRG) का एक जवान घायल हो गया।

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में 30 अगस्त को नक्सलियों ने आईईडी (IED) धमाका किया। इस आईईडी धमाके में जिला रिजर्व गार्ड (DRG) का एक जवान घायल हो गया। पुलिस के मुताबिक, इस हमले में DRG का हेड कांस्टेबल घायल हो गया है। यह घटना बीजापुर कोतवाली क्षेत्र के मनकेली गांव की है। डीआईजी, एंटी नक्सल, पी सुंदरराज के अनुसार, घायल जवान की पहचान नीला उद्दे के रूप में की गई है। यह नक्सली हमला तब हुआ जब डीआरजी की टीम एरिया डोमिनेशन पर निकली थी। फिलहाल घायल जवान का इलाज जिला चिकित्सालय में चल रहा है। घायल जवान खतरे से बाहर है।

जानकारी के मुताबिक, राजधानी रायपुर से लगभग 450 किमी दूर पेट्रोलिंग के वक्त जवानों की टीम जैसे ही गोरना के पास पहुंची, हेड कांस्टेबल नीला उद्दे ने अनजाने में नक्सलियों द्वारा लगाया गए IED विस्फोटक पर पैर रख दिया। इससे उनके पांव में गंभीर चोटें आई हैं। इसके बाद तुरंत उन्हें अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया। फिलहाल इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। इस महीने की शुरुआत में छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले में नक्सलियों द्वारा किए गए एक आईईडी विस्फोट में एक ग्रामीण की मौत हो गई थी। हालांकि, प्रशासन नक्सलवाद से निपटने के लिए तैयार है।

केन्द्र और राज्य सरकारें साथ मिलकर इस समस्या से निपटने के लिए प्रतिबद्ध हैं। जिसके लिए  पिछले 26 अगस्त को दिल्ली में गृहमंत्री अमित शाह ने नक्सलग्रस्त 10 राज्यों के मुख्यमंत्रियों और शीर्ष पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ मीटिंग की। मीटिंग दिल्ली के विज्ञान भवन में हुई। इस मीटिंग में नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ फेंकने की रणनीतियों पर चर्चा की गई। मीटिंग में पहुंचे सभी मुख्यमंत्री और आला अधिकारियों ने अपने-अपने राज्यों की स्थिति के बारे में गृहमंत्री को अवगत कराया। बैठक में नक्सलियों के खिलाफ अभियानों और प्रभावित क्षेत्रों में चल रहे विकास कार्यों की समीक्षा की गई।

इस बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (बिहार), नवीन पटनायक (ओडिशा), योगी आदित्यनाथ (उत्तर प्रदेश), कमलनाथ (मध्य प्रदेश), रघुबर दास (झारखंड) वाई एस जगनमोहन रेड्डी (आंध्र प्रदेश) और भूपेश बघेल (छत्तीसगढ़) ने हिस्सा लिया। बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नक्सलवाद के खिलाफ लड़ाई को जीतने के लिए उनकी फंडिंग रोकने को मूलमंत्र बताया। वामपंथी उग्रवाद को लोकतंत्र की मूल भावना के खिलाफ बताते हुए उन्होंने इसके लिए केंद्र और राज्यों की साझा लड़ाई की जरूरत बताई।

पढ़ें: छटपटा कर रह जाएगा पाकिस्तान, भारत ने की है ऐसी घेराबंदी

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App