बिहार का मोस्टवांटेड नक्सली तीन दशक बाद STF के हत्थे चढ़ा, IED बनाने का महारथी

एसटीएफ नक्सली (Naxalite) राम एकबाल की गिरफ्तारी को एक बड़ी कामयाबी के तौर पर देख रही है। ये पिछले तीन दशकों से प्रशासन के लिए सरदर्द बना हुआ था और मगध के इलाकों में संगठन को पुनर्जीवित करने की लगातार कोशिश कर रहा था

Naxali

बिहार में नक्सली अभियान के खिलाफ चलाये जा रहे प्रशासनिक अभियान के तहत बिहार एसटीएफ को बडी कामयाबी हाथ लगी है। जहां गया के पास जहानाबाद के काको से एसटीएफ की विशेष टीम ने प्रतिबंधित नक्सल संगठन के पूर्व रीजनल कमेटी सदस्य राम एकबाल मोची उर्फ मधीर उर्फ स्वदेशी को गिरफ्तार किया। नक्सली (Naxalite) राम एकबाल 2019 में पुलिस मुठभेड़ के बाद से ही फरार चल रहा था। फिलहाल पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। 

गणतंत्र दिवस बेस्ट मार्चिंग परेड अवॉर्ड की घोषणा, जाट रेजिमेंटल सेंटर और दिल्ली पुलिस ने जीती ट्रॉफी

गिरफ्तार नक्सली राम एकबाल पटना के मसौढ़ी के दिघवा इलाके का रहने वाला है। उसके उपर पटना, गया, नवादा, औरंगाबाद और अरवल सहित कई थानों में करीब 19 आपराधिक मामले दर्ज है। वहीं इस नक्सली के खिलाफ पहला मामला साल 1988 में मसौढ़ी थाने में दर्ज हुआ था। जहां वह कई सालों तक जेल में रहने के बाद जमानत पर रिहा हुआ और फिर से नक्सल संगठन के लिए काम करने लगा। पुलिस को तभी से इस कुख्यात नक्सली (Naxalite) की तलाश थी।  

गिरफ्तार नक्सली के बारे में कहा जाता है कि ये संगठन के लिए आईईडी विस्फोट बनाने का मास्टरमांइड आदमी है। सालों से संगठन में सक्रिय रहे राम एकबाल की गिनती राज्य के टॉप के नक्सलियों में होती है। इसने अलग-अलग कई नक्सली वारदातों में 7 लोगों को जाने से मारने का भी आरोप है।  

हालांकि जमानत के बाद फरार हुये नक्सली  (Naxalite) राम एकबाल की तलाश के लिए राज्य की पुलिस ने कई बार प्रयास किया लेकिन ये हर बार बच निकलता था। साल 2019 में ही रजौली के ढिबौर घाटी में एसटीएफ की टीम और नक्सली प्रद्युमन शर्मा के दस्ते के बीच हुई मुठभेड़ में भी वो बाल-बाल बच निकला था।

बिहार एसटीएफ नक्सली (Naxalite) राम एकबाल की गिरफ्तारी को एक बड़ी कामयाबी के तौर पर देख रही है। ये पिछले तीन दशकों से प्रशासन के लिए सरदर्द बना हुआ था और मगध के इलाकों में संगठन को पुनर्जीवित करने की लगातार कोशिश कर रहा था। राम एकबाल स्थानीय  भट्ठा मालिकों और कारोबारियों से लेवी वसूली के साथ साथ संगठन के लिए नए नौजवान सदस्यों की भर्ती के लिए पटना,  गया, जहानाबाद, और अरवल के जिलों में सक्रिय था। 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें