बिहार: नक्सलियों ने की थी जवानों पर बड़े हमले की साजिश, यूपी-बिहार बॉर्डर से दो बम बरामद

बिहार (Bihar) के सासाराम जिले के यदुनाथपुर थाना क्षेत्र में यूपी-बिहार बॉर्डर पर सीआरपीएफ (CRPF)  और स्थानीय पुलिस (Police) ने नक्सलियों की बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया। सुरक्षाबलों ने छापेमारी कर एक सिलिंडर बम और एक केन बम बरामद किया।

Naxals

सांकेतिक तस्वीर।

बिहार (Bihar) के सासाराम जिले के यदुनाथपुर थाना क्षेत्र में यूपी-बिहार बॉर्डर पर सीआरपीएफ (CRPF)  और स्थानीय पुलिस (Police) ने नक्सलियों की बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया। सुरक्षाबलों ने छापेमारी कर एक सिलिंडर बम और एक केन बम बरामद किया। नक्सली जवानों को विस्फोट कर उड़ाने की फिराक में थे। लेकिन जवानों की तत्परता की की वजह से नक्सलियों (Naxals) के मंसूबों पर पानी फिर गया।

बताया जा रहा है कि पुलिस को इलाके में नक्सलियों (Naxals) के मौजूद होने की सूचना मिली थी। इस सूचना के आधार पर पुलिस और सीआरपीएफ के जवान छापेमारी कर रहे थे। जवान यदुनाथपुर से यूपी की सीमा की तरफ जा रहे थे। इस दौरान डुमरखोह गांव के आगे सीमा से महज तीन सौ मीटर पहले पुलिया के दोनों और बम लगे हुए मिले।

घाटी में पिछले 17 दिनों में मारे गए 27 आतंकवादी- डीजीपी दिलबाग सिंह

पुलिया के बायीं ओर पांच किलो का सिलेंडर बम और दायीं ओर केन बम लगाकर तार निकाला गया था। मेटल डिटेक्टर की आवाज से बम की खोज की गई। एक बम प्लांट किया हुआ था जबकि दूसरा प्लांटेड नहीं था। सुरक्षाबलों ने चारों ओर जंगल को सील कर नक्सलियों की खोज की। लेकिन कोई सुराग हाथ नहीं लगा।

सीआरपीएफ (CRPF) के असिस्टेंट कमांडेंट के अनुसार, बम और तार मिट्टी से ढंके हुए थे। बारिश होने के कारण मिट्टी हट गई थी, जिससे साफ दिखाई देने लगा था और मेटल डिटेक्टर की रेंज में आ गया था। वरना बड़ा विस्फट हो सकता था और जवानों को बड़ा नुकसान हो सकता था।

दोनों बमों को जवानों ने सावधानी से विस्फोट कर डिफ्यूज कर दिया। बम का धमाका इतना तेज था कि पांच किलोमीटर दूर तक इसकी गूंज सुनाई दी। जानकारी के मुताबिक, नक्सली इस क्षेत्र में फिर से साख जमाने की कोशिश में लगे हैं। लेकिन सुरक्षाबलों की सक्रियता की वजह से वे अपने नापाक इरादों में सफल नहीं हो पा रहे हैं।

यह भी पढ़ें