बिहार: सासाराम से CRPF ने दो हार्डकोर नक्सलियों को गिरफ्तार किया

बिहार के सासाराम जिले में सीआरपीएफ (CRPF) को बड़ी सफलता मिली है। नक्सल विरोधी अभियान के दौरान की गई छापेमारी में दो हार्डकोर नक्‍सलियों को गिरफ्तार किया गया है। छोपमारी नौहट्टा थाना क्षेत्र के सलमा जंगल में हुई है। दोनों गिरफ्तार नक्‍सलियों से पूछताछ की जा रही है। सीआरपीएफ को उम्‍मीद है कि पूछताछ में कई अहम सुराग मिल सकते हैं। दोनों नक्सली अजय राजभर के साथ तृतीय प्रस्तुति कमेटी नामक नक्सली संगठन के सक्रिय सदस्य हैं।

CRPF
सासाराम से CRPF ने दो हार्डकोर नक्सलियों को गिरफ्तार किया

जानकारी के अनुसार, सीआरपीएफ को नौहट्टा थाना क्षेत्र स्थित कैमूर पहाड़ी पर स्थित सलमा जंगल में नक्‍सलियों की मौजूदगी की सूचना मिली थी। इसके बाद जवानों ने जंगल को घेर लिया। छापेमारी में दो हार्डकोर नक्सलियों को गिरफ्तार किया गया। दोनों नक्सली टीपीसी (तृतीय प्रस्तुति कमेटी) के बताए जाते हैं। इस संबंध में सीआरपीएफ 47 बटालियन के सहायक समादेष्टा सुभाष चंद्र झा के मुताबिक, गिरफ्तार किए गए दोनों नकसली चार सालों से फरार थे। बंदा गांव में पुलिस के साथ मुठभेड़ समेत दो मामलों में इनपर केस दर्ज है। दोनों गिरफ्तार नक्‍सलियों से पूछताछ की जा रही है।

इससे पहले, सुरक्षाबलों ने एक हार्डकोर वांटेड नक्सली को गिरफ्तार किया है। झारखंड-बिहार के सीमावर्ती इलाके में गिरिडीह और जमुई की पुलिस के साथ सीआरपीएफ (CRPF) के जवानों के संयुक्त सर्च ऑपरेशन के दौरान हार्डकोर नक्सली तेजो मंडल को गिरफ्तार किया गया। तेजो की बाइक चलाने वाले अजय मंडल को भी गिरफ्तार कर लिया गया। हालांकि, अजय के नक्सली होने की पुष्टि नहीं की गयी है। ये दोनों चकाई थाना क्षेत्र के गादी गांव के रहने वाले हैं। इन दोनों को 24 सितंबर की रात को नक्सलियों के खिलाफ चलाए जा रहे सर्च ऑपरेशन के दौरान भेलवाघाटी और चकाई थाना के सीमा पर बसे गांव गादी-बिल्ली से गिरफ्तार किया गया।

जानकारी के मुताबिक, गिरिडीह और जमुई पुलिस और भेलवघाटी बी सेवक एवं चकाई 215 बटालियन के सीआरपीएफ जवानों द्वारा 24 सितंबर को संयुक्त रूप से सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा था। इसी दौरान बाइक पर सवार दो लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। इसमें एक कुख्यात नक्सली तेजो मंडल था और दूसरे का नाम अजय मंडल उर्फ कारू बताया गया है। भेलवाघाटी बी7 बटालियन के सहायक कमांडेंट अजय कुमार ने तेजो मंडल की गिरफ्तारी की पुष्टि की है। लेकिन कारू के बारे में अब तक यह नहीं कहा है कि वह नक्सली है। बता दें कि 21 मई, 2016 को चकाई थाना क्षेत्र के गादी गांव में हुए तिहरे हत्याकांड में तेजो मंडल नामजद आरोपी है।

पढ़ें: फिर आतंकी हाफिज सईद का ढाल बना पाकिस्तान, यूएन से दिलाई बैंक खातों के इस्तेमाल की अनुमति

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here