दौड़ते हुए बम तैयार करने में है माहिर, गिरफ्तार हुआ नक्सलियों का आईईडी एक्सपर्ट

बिहार (Bihar) के मुजफ्फरपुर जिले से पुलिस ने नक्सली संगठन (Naxal Organization) के आईईडी (IED) एक्सपर्ट को गिरफ्तार कर लिया है। प्रतिबंधित संगठन भाकपा (माओवादी) के उत्तर बिहार पश्चिमी जोनल कमिटी के सैनिक दस्ता के कमांडर और हार्डकोर नक्सली (Naxalite) मुनचुन साह उर्फ रोशन को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

Naxalite

नक्सलियों का आईईडी एक्सपर्ट गिरफ्तार ।

बिहार (Bihar) के मुजफ्फरपुर जिले से पुलिस ने नक्सली संगठन (Naxal Organization) के आईईडी (IED) एक्सपर्ट को गिरफ्तार कर लिया है। प्रतिबंधित संगठन भाकपा (माओवादी) के उत्तर बिहार पश्चिमी जोनल कमिटी के सैनिक दस्ता के कमांडर और हार्डकोर नक्सली (Naxalite) मुनचुन साह उर्फ रोशन को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। एसएसबी (SSB), एसटीएफ (STF) और पुलिस के ज्वॉइंट ऑपरेशन में उसे अहियापुर थाना के एसकेसीएच के पास से गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तारी के बाद उसे सरैया थाना के हवाले कर दिया गया।

संगठन की ओर से मिली थी आइईडी बनाने के लिए खास ट्रेनिंग: नक्सली संगठन (Naxal Organization) में मुनचुन साह की गिनती आइईडी (IED) विशेषज्ञ के रूप में की जाती थी। उसे संगठन की ओर से आइईडी बनाने के लिए खास ट्रेनिंग दी गई थी। पूछताछ में उसने कुबूल किया है कि अब तक उसने लगभग 150 आइईडी तैयार किया है। वह चलते या दौड़ते हुए भी बम तैयार करने में माहिर था। इसके अलावा वह संगठन के लिए लेवी वसूलने का काम भी करता था। वह पश्चिमी जोनल कमेटी के सचिव रामबाबू राम राजन उर्फ प्रहार का खास सहयोगी था।

वायुसेना में शामिल हुई ‘फ्लाइंग बुलेट्स’, चीन की हर हरकत पर रखेगी कड़ी नजर

पहले भी हो चुका है गिरफ्तार: यह नक्सली (Naxalite) के खिलाफ सरैया, बोचहां, हथौड़ी, देवरिया, साहेबगंज, मोतीपुर, पारू व पूर्वी चंपारण के राजेपुर सहित अन्य थाना क्षेत्रों में नक्सली वारदात से संबंधित 50 से अधिक मामले दर्ज है। साल 2012 में मुनचुन साह को मीनापुर में गिरफ्तार किया गया था। उसकी निशानदेही पर पुलिस ने पूर्वी चंपारण जिला के छेनी छपरा गांव से एके-56 व बड़ी संख्या में कारतूस बरामद किया था। पुलिस ने हार्डकोर नक्सली इसराफिल मियां और मुन्ना मियां को भी गिरफ्तार किया था।

एएसपी की हत्या की रची थी साजिश: उत्तर बिहार में नक्सलियों (Naxals) की कमर तोड़ने वाले तत्कालीन एएसपी (अभियान) राणा ब्रजेश की हत्या की मुनचुन ने साजिश रची थी। उसने यह साजिश संगठन के जोनल कमेटी के सचिव रामबाबू राम राजन उर्फ प्रहार के निर्देश पर रची थी। उस समय राणा ब्रजेश के मुख्य निशाने पर आने से वह घबरा गया था। उसे अपनी गिरफ्तारी या मारे जाने का डर था। खुफिया सूचना के आधार पर 8 मार्च, 2015 में मोतिहारी से उसे गिरफ्तार कर लिया गया और उसकी साजिश सफल नहीं हो पाई।

कर चुका है कई हत्याएं: साल 2009 में यह नक्सली (Naxalite) अपने गांव के रामबाबू प्रसाद के साथ नक्सली संगठन (Naxal Organization) में शामिल हुआ था। उसका मुख्य निशाना नारायणपुर रहा। उसने यहां कई लोगों की हत्या की है। इसमें तत्कालीन मुखिया प्रेमचंद की हत्या भी शामिल है। संगठन के ऑपरेशन में सबसे आगे रहने के कारण उसे सैनिक दस्ता का कमांडर बनाया गया था।

यह भी पढ़ें