बिहार: नक्सलियों के खिलाफ STF का अभियान जारी, लखीसराय से कुख्यात नक्सली गिरफ्तार

बिहार (Bihar) के लखीसराय जिले से सुरक्षाबलों ने एक नक्सली (Naxalite) को गिरफ्तार कर लिया। जिले के कजरा थाना क्षेत्र से पुलिस ने नक्सली कारू कोड़ा को गिरफ्तार कर लिया। लखीसराय एसटीएफ (STF) को 10 जून को यह सफलता हाथ लगी।

Naxalite

लखीसराय से गिरफ्तार नक्सली।

बिहार (Bihar) के लखीसराय जिले से सुरक्षाबलों ने एक नक्सली (Naxalite) को गिरफ्तार कर लिया। जिले के कजरा थाना क्षेत्र से पुलिस ने नक्सली कारू कोड़ा को गिरफ्तार कर लिया। लखीसराय एसटीएफ (STF) को 10 जून को यह सफलता हाथ लगी। पुलिस सूत्रों ने 11 जून को यहां बताया कि खुफिया सूचना के आधार पर विशेष कार्यबल (एसटीएफ) की टीम ने स्थानीय पुलिस (Police) के सहयोग से 10 जून की देर रात किशुन कोड़ासी गांव से नक्सली कारू कोड़ा उर्फ अजीत कोड़ा को गिरफ्तार कर लिया।

जानकारी के अनुसार, एसटीएफ को हार्डकोर नक्सली (Naxali) कारू कोड़ा उर्फ अजीत कोड़ा के बारे में गुप्त सूचना मिली थी। सूचना में कहा गया था कि कारू कोड़ा कजरा थाने के किशुन कोड़ासी आया हुआ है। इस खुफिया सूचना के आधार पर STF ने तत्काल कार्रवाई कर इस नक्सली (Naxalite) को गिरफ्तार कर लिया।

छत्तीसगढ़: सुरक्षाबलों को देखकर भागने लगा नक्सली, CRPF जवानों ने खदेड़ कर पकड़ा

बता दें कि बीते कुछ दिनों से एसटीएफ (STF) ने नक्सलियों के खिलाफ विशेष अभियान चला रखा है। लगातार छापेमारी कर नक्सलियों (Naxals) की कमर तोड़ने का काम किया जा रहा है। पिछले कुछ दिनों में कई नक्सलियों को गिरफ्तार किया गया है। इससे पहले, राज्य के वैशाली जिले में सुरक्षाबलों ने 9 जून को एक हार्डकोर नक्सली (Naxali) को गिरफ्तार कर लिया।

गुवाहाटी से श्रमिक स्पेशल ट्रेन से आ रहे नक्सली मंटुन पासवान को एसटीएफ (STF) ने किऊल स्टेशन पर दबोच लिया। गिरफ्तार हार्डकोर नक्सली (Naxalite) वैशाली जिला का रहने वाला है। जानकारी के अनुसार, 9 जून को वह असम के गुवाहाटी से श्रमिक स्पेशल ट्रेन से वापस पटना लौट रहा था।

हार्डकोर नक्सली (Hardcore Naxali) के वापस लौटने की भनक मिलने के बाद STF की टीम ने जाल बिछाकर उसे किऊल स्टेशन से गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार नक्सली को एसटीएफ की टीम अपने साथ लेकर पटना गई। कुख्यात नक्सली (Naxalite) मंटून पासवान पर दर्जनों बम विस्फोट, यूएपीए एक्ट, सहित कई संगीन ममाले दर्ज हैं। वह कई बड़ी घटनाओं को अंजाम देने के बाद असम भाग गया था।

यह भी पढ़ें