बिहार: कैमूर में धराया कुख्यात नक्सली, 14 सालों से चल रहा था फरार

बिहार (Bihar) के कैमूर जिले के अधौरा थाना सीआरपीएफ (CRPF) और पुलिस (Police) की संयुक्त टीम ने 14 साल से फरार एक कुख्यात नक्सली (Naxalite) को गिरफ्तार कर लिया।

Naxalite

गिरफ्तार कुख्यात नक्सली।

बिहार (Bihar) के कैमूर जिले के अधौरा थाना सीआरपीएफ (CRPF) और पुलिस (Police) की संयुक्त टीम ने 14 साल से फरार एक कुख्यात नक्सली (Naxalite) को गिरफ्तार कर लिया। इस ज्वॉइंट ऑपरेशन में रोहतास के कैमूर पहाड़ी के सड़की के जंगल से CRPF टीम ने सालों से फरार नक्सली भरदुल यादव को गिरफ्तार किया।

बता दें कि गत 5 मई को अधौरा थानान्तर्गत ग्राम दुग्धा के जंगल में दुर्गावती नदी के किनारे पहाड़ी के खोह से दो शक्तिशाली केन बम बरामद हुए थे। जिसे सीआरपीएफ (CRPF) टीम के बम निरोधक दस्ते ने निष्क्रिय किया था। बम के बारे में पड़ताल के लिए अपर पुलिस अधीक्षक (अभियान) कैमूर के नेतृत्व में एक टीम गठित की गई थी।

भारत में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 1 लाख के पार, ऑफिस में थूकने वालों पर तगड़ा फाइन और सजा का प्रावधान

अधिकारियों के मुताबक, इसी क्रम में अधौरा थाना के सीआरपीएफ (CRPF) कम्पनी जी-47 और कम्पनी कमांडर सी-47 ने तियरा कला थाना यदुनाथपुर जिला रोहतास और अधौरा थाना के संयुक्त छापेमारी में कुख्यात नक्सली (Naxalite) को गिरफ्तार किया। पकड़ा गया अभियुक्त भरदुल यादव कई वारदातों का वॉन्टेड है, जो कई सालों से फरार चल रहा था।

भरदुल यादव रोहतास जिले के बेल्दूरिया थाना चुटिया के रहने वाला है। 2001 से वह नक्सली गतिविधियों में शामिल है। उसके बाद से उसने कई संगीन वारदातों को अंजाम दिया। बम बलास्ट, पुलिस हथियार की लूट की योजना सहित आधे दर्जन मामलों में यह मुख्य आरोपी था। फरार चल रहे इस नक्सली (Naxalite) को रोहतास और कैमूर पुलिस तलाश कर रही थी।

कैमूर एसपी दिलनवाज अहमद के मुताबिक, 5 मई को अधौरा पहाड़ी के दुग्धा गांव के जंगल में दो केन बम बरामद हुए थे, जिसको लेकर सीआरपीएफ और अधौरा पुलिस लगातार छापेमारी में जुटी हुई थी। इसी कड़ी में रोहतास पुलिस और कैमूर पुलिस के संयुक्त छापेमारी अभियान में नक्सली (Naxalite) भरदुल यादव को सड़की के जंगल से गिरफ्तार किया गया, इसके ऊपर आधे दर्जन से भी अधिक आरोप हैं। वह 14 वर्ष से फरार चल रहा था। नक्सली टीम कामेश्वर बैठा के गिरोह का सदस्य था।

यह भी पढ़ें