बिहार: जमुई में सुरक्षाबलों को मिली कामयाबी, भारी मात्रा में नक्सलियों के हथियार बरामद

नक्सल ऑपरेशन सेल के माध्यम से एसपी जमुई को गुप्त सूचना मिली थी कि चरकापत्थर के समीप चिल्काखार गांव में नक्सलियों (Naxals) का एक दस्ता छिपा है। ये नक्सली वहां किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की योजना बना रहे हैं।

Naxals

सांकेतिक तस्वीर।

बिहार (Bihar) के जमुई में सुरक्षाबलों को एंटी नक्सल ऑपरेशन (Anti Naxal Operation) में सफलता मिली है। जिले के सोनो थाना क्षेत्र के नक्सल प्रभावित चरकापत्थर के जंगली क्षेत्र में सशस्त्र बलों ने छापेमारी अभियान चलाकर एक एसएलआर सहित भारी मात्रा में नक्सलियों (Naxals) के असलहे बरामद किए हैं।

अपर पुलिस अधीक्षक अभियान सुधांशु कुमार के मुताबिक, नक्सल ऑपरेशन सेल के माध्यम से एसपी जमुई को गुप्त सूचना मिली थी कि चरकापत्थर के समीप चिल्काखार गांव में नक्सलियों (Naxals) का एक दस्ता छिपा है। ये नक्सली वहां किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की योजना बना रहे हैं।

Ladakh: गलवान घाटी में 2 किलोमीटर पीछे हटी चीन की सेना, सैनिकों के बीच बना बफर जोन

जानकारी मिली थी कि ये वही नक्सली (Naxalites) हैं जो 7 – 8 जून 2020 की रात चकाई थाने की बोगी गांव में सड़क निर्माण कंपनी की तीन जेसीबी जलाने की घटना में शामिल थे। सूचना मिलते ही चरकापत्थर में तैनात एसएसबी (SSB) की यूनिट, सीआरपीएफ (CRPF), क्यूएटी, नक्सल ऑपरेशन सेल और चरकापत्थर थाने की पुलिस की एक टीम गठित की गई।

टीम को चिल्काखार के जंगली एवं पहाड़ी क्षेत्र में सर्च के दौरान गांव से करीब एक किलोमीटर दक्षिण जंगल के पास बनी एक झोपड़ी के पास कुछ लोगों की हलचल दिखी। पुलिस (Police) को आता देख वे जंगल की ओर भाग गए। जवानों ने उस स्थल की घेराबंदी कर सर्च अभियान चलाया। इस दौरान पुलिस ने वहां से एक एसएलआर सहित भारी मात्रा में हथियार, नक्सली साहित्य सहित अन्य सामान बरामद किए।

जवानों ने घटनास्थल से 1 एसएलआर, 10 एसएलआर की गोली , एसएलआर की 3 मैगनीज, 1 देशी कट्टा, 1 वॉकी-टॉकी, 2 सेट वर्दी, 11 वर्दी कैप, 1 कंप्रेसर पाइप, 9 सीम कार्ड और मुंगेर क्षेत्र का एक मैंप बरामद किया। बताया जा रहा है कि बरामद एसएलआर झाझा जीआरपी रेल थाने की है। जानकारी के अनुसार, साल 2008 में रेल थाने पर हमला कर नक्सली (Naxals) इसे लूट ले गए थे।

यह भी पढ़ें