बिहार: मुंगेर से 4 नक्सली पुलिस के हत्थे चढ़े, कर रहे थे हथियारों की तस्करी

naxal, bihar, मुंगेर में नक्‍सली गिरफ्तार, हार्डकोर नक्‍सली गिरफ्तार, नक्‍सलियों से कारतूस बरामद, अष्‍टधातु मूर्ति बरामद, मुंगेर पुलिस, नक्‍सली मुंगेर, Naxalite arrested in Munger, Hardcore Naxalite arrested, Ashtadhatu idol recovered, sirf sach, sirfsach.in, सिर्फ सच
बिहार के मुंगेर से गिरफ्तार नक्सली

बिहार के मुंगेर में सुरक्षाबलों ने चार नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। जिले के धरहरा प्रखंड के नक्सल प्रभावित लड़ैयाटांड़ और मुफसिल थाना क्षेत्र की अलग-अलग अलग जगहों पर छापेमारी कर नक्सलियों को हथियार पहुंचाने वाले चार नक्सलियों को गिरफ्तार किया गया। उनके पास से 32 कारतूस, एक खोखा, एक धातु की मूर्ति, नक्सली पर्चे और तीन मोबाइल फोन बरामद किए गए। एसटीएफ और जिला पुलिस बल का संयुक्त कार्रवाई में पुलिस को यह सफलता मिली। जानकारी के अनुसार, पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि लड़ैयाटाड़ थाना क्षेत्र के घटवारी गांव का दिवाकर साह हथियार तस्करों से भारी मात्रा में पिस्टल, गोलियां और अन्य हथियार खरीदकर झारखंड बिहार जोन (जेबी जोन) के नक्सली कंमाडर अरविन्द यादव को चानन के गोबरदाहा में पहुंचाने वाला है।

सूचना मिलते ही मुंगेर के डीआइजी मनु महाराज के नेतृत्व में लड़ैयाटाड थाने के थानाध्यक्ष कमल किस्कू, एसटीएफ तथा जिला पुलिस बल के जवानों ने घटवारी गांव में दिवाकर साह के घर की घेराबंदी कर ली और उसे गिरफ्तार कर लिया। उसके पास से 32 कारतूस, एक खोखा और एक धातु की मूर्ति बरामद की गई। इसके बाद दिवाकर की निशानदेही पर गोरैया गांव के पूर्व नक्सली स्व. किट्टर कोड़ा के घर पर छापेमारी की गई। जिसमें नक्सली पर्चे के साथ इंद्रदेव कोड़ा को गिरफ्तार किया गया। वहीं, टेगहरा गांव के मनोज कोड़ा और मुंगेर मुफस्सिल थाना क्षेत्र के शंकरपुर का रहने वाला हथियार तस्कर सुधीर यादव को भी पकड़ा गया।

डीआइजी मनु महाराज के अनुसार, घटवारी का दिवाकर साह पहले भी नक्सली कांड में जेल जा चुका है। वह नक्सली कंमाडर अरविन्द यादव के लिए हथियार तस्कर सुधीर यादव से पिस्टल गोली सहित अन्य हथियार खरीद कर इन्द्रदेव कोड़ा को पहुंचाता था। इसके बाद इन्द्रदेव कोड़ा वह हथियार मनोज कोड़ा को सौंप देता था। मनोज उन्हें चानन के जंगलो में अरविन्द यादव तक पहुंचा देता था। डेढ़ महीने पहले दिवाकर साह ने नक्सली कमांडर से लाखों रुपये लेकर हथियार खरीदे और उसी में बचत कर अपने लिए एक धातु की मूर्ति भी खरीदी थी।

पढ़ें: डीएसपी दिनेश्वरी नंद की कहानी, पिता के साथ ली थी ट्रेनिंग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here