बिहार: औरंगाबाद से भाकपा माओवादी के दो नक्सलियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया

naxali, bihar, aurangabad, naxals arrested, crpf, stf, police, sirf sach, sirfsach.in
भाकपा माओवादी के गिरफ्तार नक्सली

बिहार के औरंगाबाद की जिला पुलिस, सीआरपीएफ एवं एसटीएफ की टीम ने 19 सितंबर की शाम भाकपा माओवादी के दो नक्सलियों को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार नक्सलियों में सियाराम यादव और पप्पू कुमार यादव शामिल हैं। पुलिस ने दोनों के पास से नक्सली बैनर, 102 पोस्टर और मोबाइल फोन बरामद किया है। पुलिस ने पप्पू की ड्राइविग लाइसेंस के साथ ही दोनों नक्सलियों की बाइक भी जब्त कर ली है। एसपी दीपक वर्णवाल के अनुसार, जिला पुलिस, सीआरपीएफ और एसटीएफ की टीम मदनपुर के दक्षिणी इलाके के जंगल में नक्सलियों के जमा होने की सूचना पर छापेमारी के लिए गई थी।

इसी दौरान नक्सलियों के बैनर एवं पोस्टर के साथ बाइक से दलेल बिगहा रोड से होकर आंजन नहर के रास्ते आ रहे सियाराम और पप्पू को सुरक्षाबलों ने पकड़ लिया। सियाराम के साथ आ रहे एक और नक्सली तथा दूसरे बाइक पर बैठे तीन अन्य नक्सली पुलिस को देख भाग निकले। एसपी के मुताबिक, फरार हुए नक्सलियों में दुर्गा यादव, पप्पू कुमार, रामदयाल एवं उदय यादव शामिल हैं। फरार नक्सलियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने उनके घर पर छापेमारी की, लेकिन सभी नक्सली घर से फरार थे। पुलिस के अनुसार, गिरफ्तार दोनों नक्सलियों के द्वारा नक्सलियों के लिए ठेकेदारों, ईंट भट्ठों एवं अन्य लोगों से लेवी की वसूली कर पहुंचाने का काम किया जाता है।

पढ़ें: दो राज्यों में आतंक का पर्याय बना नक्सली पुलिस के हत्थे चढ़ा

नक्सलियों को जंगल और पहाड़ पर सामान पहुंचाया जाता है। साथ ही ये दोमों पुलिस की गतिविधियों की सूचना नक्सलियों को देते हैं। ये लोग नक्सलियों का पोस्टर और बैनर गांवों में लगाने का काम भी करते हैं। ये सभी नक्सली कमांडर विनय उर्फ मुराद, विवेक और संजीत के लिए काम करते हैं। इससे पहले, राज्य के सासाराम से एक पुलिस अफसर पर हमला करने वाले दो हार्डकोर नक्सलियों को सुरक्षाबलों ने गिरफ्तार किया है। एक नक्सली जिले के चुटिया थाना क्षेत्र के कातूडाण जंगल से तथा दूसरा नक्सली लहबरमाइ मंदिर के पास से गिरफ्तार किया गया। इन दोनों गिरफ्तार नक्सलियों के नाम बालेश्वर ठाकुर और रंजीत राम हैं।

दोनों को सीआरपीएफ और चुटिया पुलिस ने 19 सितंबर की देर शाम गिरफ्तार किया। दोनों गिरफ्तार नक्सली चुटिया के ही रहने वाले हैं। दोनों नक्सलियों ने साल 2011 में चुटिया थाना के अमहुआ के पास तत्कालीन एसपी मनु महाराज पर हमला किया था। इसके अलावा ये दोनों परछा मिडिल स्कूल को बारूदी विस्फोट में उड़ाने के भी आरोपी हैं। आठ सालों से ये दोनों नक्सली पुलिस को चकमा दे रहे थे। जानकारी के मुताबिक, अभियान एसपी दुर्गेश कुमार को दोनों नक्सलियों के क्षेत्र में आने की सूचना मिली थी। एसपी के निर्देश पर सीआरपीएफ के असीस्टेंट कमांडेंट सुभाष चंद्र झा और चुटिया के प्रभारी थानाध्यक्ष मुकेश कुमार ने छापेमारी की। जिसके बाद दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया।

पढ़ें: गिरिडीह से कुख्यात नक्सली गिरफ्तार, बड़ी मात्रा में हथियार और प्रतिबंधित सामग्री बरामद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here