बिहार: औरंगाबाद में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, हार्डकोर नक्सली राणा रंजन गिरफ्तार

बिहार (Bihar) के धुर नक्सल प्रभावित औरंगाबाद जिले में नक्सलियों के खिलाफ चलाए जा रहे विशेष अभियान (Anti Naxal Operation) में बड़ी कामयाबी मिली है।

Naxalite

सीआरपीएफ (CRPF) की एफ-47 बटालियन और मदनपुर पुलिस (Police) ने संयुक्त कार्रवाई में हार्डकोर नक्सली (Naxalite) महाराणा प्रताप रंजन उर्फ राणा रंजन को गिरफ्तार किया है।

बिहार (Bihar) के धुर नक्सल प्रभावित औरंगाबाद जिले में नक्सलियों के खिलाफ चलाए जा रहे विशेष अभियान (Anti Naxal Operation) में बड़ी कामयाबी मिली है। सीआरपीएफ (CRPF) की एफ-47 बटालियन और मदनपुर पुलिस (Police) ने संयुक्त कार्रवाई में हार्डकोर नक्सली (Naxalite) महाराणा प्रताप रंजन उर्फ राणा रंजन को गिरफ्तार किया है।

वह बिहार में नक्सली संगठन के संस्थापकों में शामिल भाकपा माओवादी के पोलित ब्यूरो के सदस्य रहे जगदीश यादव उर्फ जगदीश मास्टर का पोता और झारखंड के 25 लाख के इनामी नक्सली वीरेंद्र यादव उर्फ सौरभ जी उर्फ मरकस जी का भतीजा है।

बिहार: बक्सर सेंट्रल जेल ब्रेक कांड में फरार नक्सली गिरफ्तार, लंबे समय से पुलिस को थी इसकी तलाश

इस बात की जानकारी जिले के पुलिस कप्तान कांतेश कुमार मिश्रा ने दी। उन्होंने बताया कि भाकपा माओवादी के हार्डकोर दस्ते के सदस्य राणा रंजन को गुप्त सूचना के आधार पर लंगुराही में उमगा मंदिर के पास से गिरफ्तार किया गया। पकड़ा गया नक्सली (Naxalite) 19 साल का है। वह कासमा थाने के गम्हरिया गांव का रहने वाला है।

पूछताछ में गिरफ्तार नक्सली राणा रंजन ने बताया कि उसकी नक्सल पृष्ठभूमि रही है। उसने स्वीकार किया कि उसके दादा जगदीश यादव उर्फ जगदीश मास्टर उस पर नक्सली दस्ते में शामिल होने के लिए बार-बार दबाव बनाते रहे। दादा के दबाव में ही वह फरवरी, 2021 से ही नक्सली जोनल कमांडर संजीत भुईयां उर्फ सागर जी से संपर्क में है।

ये भी देखें-

गिरफ्तार नक्सली के पास से कई किताबों-पत्रिकाओं के अलावा, जोनल कमांडर संजीत भुईया का मोबाइल नंबर, पर्चा, मोबाइल, एक सिम और प्लास्टिक के बैग में लपेटकर रखे हुए 1,500 रुपये नगद बरामद किया गया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें