आंध्र प्रदेश: ओडिशा सीमा पर मुठभेड़ में 5 नक्सली ढेर

andhrapradesh, naxali encounter, SPF, sirf sach, sirfsach.in, आंध्र प्रदेश, मुठभेड़ में 5 नक्सली ढेर, विशाखापत्तनम, ग्रेहाउंड, स्पेशल प्रोटेक्शन बल, एसपीएफ, नक्सली, सिर्फ सच

आंध्र प्रदेश-ओडिशा सीमा के पास 22 सितंबर को पुलिस के साथ मुठभेड़ में पांच नक्सली मार गिराए गए। पुलिस के अनुसार, यह घटना गुडेम कोथा विधि ब्लॉक में गुम्मिरेवुलू गांव के पास धारकोंडा एजेन्सी क्षेत्र में हुई। दरअसल, नक्सल विरोधी बल ग्रेहाउंड और स्पेशल प्रोटेक्शन बल (एसपीएफ) इलाके में सर्च ऑपरेशन पर थे। सर्चिंग के दौरान सुरक्षाबलों का नक्सलियों से आमना-सामना हो गया। जिसके बाद यह मुठभेड़ शुरू हुई। दोनों तरफ से भारी गोलीबारी हुई। मुठभेड़ में सुरक्षाबलों को भारी पड़ता देख नक्सली भाग खड़े हुए। मुठभेड़ खत्म होने के बाद जवानों ने घटनास्थल की तलाशी ली, जिसमें पांच नक्सलियों के शव बरामद किए गए।

वारदात-स्थल से हथियार और नक्सलियों के किटबैग्स भी बरामद किए गए। पुलिस की तरफ से किसी के हताहत होने की कोई सूचना नहीं है। सुरक्षाबलों ने जंगल में भाग निकले नक्सलियों को पकड़ने के लिए संयुक्त तलाशी अभियान चलाया।मुठभेड़ में माओवादी के शीर्ष नेता अरुणा के होने की आशंका व्यक्त की जा रही है। हाल ही में ईस्टजोन पहुंची अरुणा पिछले कुछ समय से विशाखापटनम मान्यम क्षेत्र में पार्टी की गतिविधियां चला रही है। लंबे समय से नक्सली संगठन से जुड़ी अरुणा कई नक्सली घटनाओं में शामिल रही है। हालांकि, अरुणा की मौत को लेकर पुलिस की तरफ से किसी तरह की पुष्टि नहीं हुई है।

पढ़ें: सरकार की पुनर्वास नीतियों से प्रभावित होकर कुख्यात नक्सली ने किया सरेंडर

इससे पहले, नक्सलियों ने नेता किडारी सर्वेशेवर राव की हत्या कर दी थी। इस हत्या में अरुणा की सक्रिय भूमिका होने की खबरें भी आईं थी। 2015 में कोय्यूर मुठभेड़ में पुलिस के हाथों मारे गए शीर्ष माओवादी नेता आजाद की बहन अरुणा उर्फ वेंकट रवि चैतन्य किडारी की हत्या में भी  शामिल थी। यह भी बताया जा रहा है कि अरुणा ने बहुत ही करीब से विधायक और पूर्व विधायक पर गोलियां चलाई थी। उसके बाद अरुणा कई बार पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ों में बच निकली। अब धारकोंडा में हुई इस मुठभेड़ में अरुणा के मारे जाने की आशंका व्यक्त की जा रही है।

बता दें कि भारतीय कम्युनिष्ट पार्टी-माओवादी के वर्षगांठ समारोह के मद्देनजर क्षेत्र में तलाशी अभियान चलाया जा रहा है। नक्सलियों ने 21 से 28 सितंबर तक वर्षगांठ समारोह मनाने की घोषणा की है। इस दौरान नक्सलियों द्वारा किसी भी घटना को अंजाम देने की आशंका है। यही वजह है कि सुरक्षा के मद्देनजर इलाके में नक्सल विरोधी अभियान तेज कर दिया गया है। नक्सलियों की खोजबीन की जा रही है। किसी भी अनहोनी की आशंका को देखते हुए सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।

पढ़ें: ‘महिलाओं और बच्चों का शोषण होता है’, 10 लाख के इनामी नक्सली ने सरेंडर के बाद खोली संगठन की पोल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here