बीता एक साल: मेरठ के 6 जवान देशसेवा में शहीद, बागपत और मुजफ्फरनगर का भी एक-एक जवान शहीद

भारत के जवान अपनी मातृभूमि की रक्षा के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। मेरठ से एक साल में 6 जवान देशसेवा के दौरान शहीद हुए हैं।

Prabhjot Singh

फाइल फोटो

शहीद (Martyr) जवानों का नाम हवलदार बिपुल राय, लेफ्टिनेंट आकाश चौधरी, प्रशांत शर्मा, अनिल तोमर, पिंकू कुमार, सूबेदार वीरेंद्र कुमार और कैप्टन श्रेयांश कश्यप है।

मेरठ: भारत के जवान अपनी मातृभूमि की रक्षा के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। यूपी के मेरठ से इस बार बीते एक साल में 6 जवान देशसेवा के दौरान शहीद हुए हैं। इस एक साल में बागपत और मुजफ्फरनगर के भी एक-एक जवान ने शहादत दी।

17 जून, 2020 से लेकर 29 मई, 2021 तक मेरठ के 6 लाल अपनी जान को देश के नाम कुर्बान कर चुके हैं। वहीं अगर बागपत और मुजफ्फरनगर के शहीद जवानों को भी इसी लिस्ट में शामिल किया जाए तो शहीद (Martyr) जवानों की संख्या 8 हो जाती है।

इन शहीद जवानों का नाम हवलदार बिपुल राय, लेफ्टिनेंट आकाश चौधरी, प्रशांत शर्मा, अनिल तोमर, पिंकू कुमार, सूबेदार वीरेंद्र कुमार और कैप्टन श्रेयांश कश्यप है।

कैप्टन श्रेयांश कश्यप मेरठ के रहने वाले थे और वह 29 मई, 2021 को उत्तरी सिक्किम में सरहद की निगरानी करते हुए शहीद (Martyr) हो गए थे। ड्यूटी के दौरान ही उनकी तबीयत बिगड़ गई थी और उन्हें हॉस्पिटल ले जाया गया था, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था। वह महज 24 साल के थे।

स्क्वॉड्रन लीडर अभिनव चौधरी 21 मई, 2021 को शहीद (Martyr) हुए थे। वह भी मूल रूप से मेरठ के निवासी थे। वह पंजाब के मोगा जिले में मिग-21 विमान में खराबी होने की वजह से शहीद हो गए थे। ये विमान हादसे का शिकार हो गया था।

सूबेदार वीरेंद्र कुमार 17 अप्रैल, 2021 को शहीद हुए थे। वह भी मेरठ के रहने वाले थे। वह सियाचिन में तैनात थे। उनकी हृदय गति रुकने की वजह से मौत हो गई थी।

Coronavirus: देश में घट रहे कोरोना के मामले, 24 घंटे में आए इतने केस

अनिल तोमर 28 दिसंबर, 2020 को शहीद (Martyr) हुए थे। वह भी मेरठ के रहने वाले थे। जम्मू-कश्मीर के शोपियां में मुठभेड़ के दौरान उन्होंने आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब दिया था। मुठभेड़ में उन्हें पांच गोलियां लगी थीं।

लेफ्टिनेंट आकाश चौधरी 18 जुलाई, 2020 को शहीद हुए थे। वह भी मेरठ के रहने वाले थे। वह चीन सीमा पर पेट्रोलिंग के दौरान खाई में गिर गए थे, जिसकी वजह से उनकी मौत हो गई थी।

हवलदार बिपुल राय 17 जून, 2020 को शहीद हुए थे। वह लद्दाख के गलवान में हुई झड़प में शहीद हुए थे। मूल रूप से उनका घर पश्चिम बंगाल में था लेकिन काफी समय से वह मेरठ में ही रह रहे थे।

प्रशांत शर्मा 29 अगस्त, 2020 को शहीद हुए थे। वह मूल रूप से मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना मोड़ के निवासी थे। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़ में उनकी मौत हुई थी।

पिंकू कुमार 28 मार्च, 2021 को शहीद हुए थे। वह मूल रूप से बागपत के निवासी थे। जम्मू-कश्मीर के शोपियां में आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान उन्होंने शहादत दी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें