नक्सलवाद का सच

Chhattisgarh: सुकमा में नक्सलियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ हुई है। ये मुठभेड़ किस्टाराम थाना क्षेत्र में हुई है। नक्सलियों ने घात लगाकर हमला किया।

ये आईईडी पहले चरण के मतदान से पहले बरामद किए गए। सीआरपीएफ को बुधवार सुबह सर्च अभियान के दौरान आईईडी (IED)मिले। इन्हें डिफ्यूज कर दिया गया है।

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election 2020) को देखते हुए नक्सलियों पर लगातार नकेल कसी जा रही है। ताजा मामला इमामगंज विधानसभा क्षेत्र का है।

नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ लगातार अभियान जारी है, फिर भी नक्सली अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। नक्सली सुरक्षाबलों के खिलाफ लगातार साजिश रच रहे हैं।

घटना गिरिडीह जिले के देवरी प्रखंड के चिलखारी गांव की है। यहां के ग्रामीण आज भी 26 अक्टूबर 2007 की आधी रात को नक्सलियों द्वारा मचाए गए तांडव को नहीं भूले हैं।

पुलिस को खुफिया सूचना मिली थी कि पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया (PLFI) के कुछ नक्सली, रंगदारी वसूलने के लिए बुंडू ममाइल जंगल से गांव में पहुंच रहे हैं।

रंजन गोप को पिपरवार थाना क्षेत्र के बचराटांड से गिरफ्तार किया गया। इस बात की जानकारी पिपरवार थाना प्रभारी संजय कुमार सिंह ने दी।

एसटीएफ ने नक्सली आकाश को गिरफ्तार कर लिया है और उसके पास से पिस्टल समेत 5 गोलियां बरामद हुई हैं। नक्सली आकाश पर करीब 13 मामले दर्ज हैं।

Jharkhand: एक तरफ लोग दशहरा पर्व मनाने अपने घर आए हुए हैं, वहीं दूसरी तरफ टीपीसी उग्रवादियों की कायराना हरकत थम नहीं रही है।

राज्य में विधानसभा चुनावों की वजह से सुरक्षा व्यवस्थाओं का विशेष ध्यान रखा जा रहा है। इस दौरान नक्सलियों (Naxalites) पर कड़ी नजर रखी जा रही है

Bihar Election: बिहार विधानसभा चुनावों को देखते हुए नक्सलियों के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई की जा रही है। ताजा मामला अमगढ़वा गांव का है।

Bihar: दरअसल मदनपुर थाना क्षेत्र के कनौदी गांव के पास भाकपा माओवादी नक्सलियों (Naxalites) के द्वारा आईईडी लगाए जाने की सूचना मिली थी।

बिहार विधानसभा चुनाव: नक्सलियों (Naxalites) की टीमों ने बिहार राज्य से सटे झारखंड और छत्तीसगढ़ के इलाके में अपनी चहलकदमी शुरू कर दी है।

जांभोलकर का कहना है कि केंद्र और राज्य सरकारों की नीतियों की वजह से नक्सलवाद कम है सरकारें सरेंडर नीति को बढ़ावा दे रही हैं।

नक्सलियों ने फोर्स पर 2 बार फायरिंग की, और जब वह अपने मंसूबों में नाकाम रहे तो फरार हो गए। मौके से बड़ी संख्या में नक्सल सामग्री बरामद हुई है।

जुनेजा (Ashok Juneja) के इस इलाके में पहुंचने से जवानों का जोश बढ़ गया है और वह उत्साह के साथ अपने काम को कर रहे हैं। जुनेजा को देशसेवा की प्रेरणा अपने परिवार से मिली।

नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ लगातार अभियान चलाया जा रहा है, लेकिन फिर भी वह अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। ताजा मामला मलकानगिरि जिले का है।

यह भी पढ़ें