नक्सलवाद का सच

पुलिस ने गुरुवार को 2 नकली AK-47 बरामद की हैं। एसपी ने कहा है कि छोटे कैडर के नक्सलियों (Naxalites) का इसके लिए इस्तेमाल हो रहा है।

Chhattisgarh: ये सिलगेर और दरभा के ग्रामीणों के नजरिए का ही फर्क है। क्योंकि सिलगेर के ग्रामीण जवानों को अपना दुश्मन मान रहे हैं।

नक्सली कोरोना संक्रमण को लेकर झूठ बोल रहे हैं। इसका असर ये हुआ है कि नक्सल प्रभाव वाले अंदरूनी इलाकों में कोरोना तेजी से फैल रहा है।

तेलंगाना में कोरोना से मरने वाले नक्सली (Naxalites) कमांडर कोरसा गंगा उर्फ आयतु से जुड़ा है। इस नक्सली का अंतिम संस्कार सुकमा जिले की पुलिस ने किया है।

अपनी बढ़ती मांग की वजह से नुनूचंद को घमंड होने लगा और वह नक्सली (Naxalites) संगठन की महिलाओं के साथ संबंध बनाने के लिए जबरदस्ती करने लगा।

सुकमा में नक्सलियों के गढ़ माने जाने वाले सिलगेर के जंगल में पुलिस कैंप खुलने का ग्रामीण आदिवासी पिछले 14 दिनों से विरोध कर रहे हैं।

नुनूचंद 5 लाख का इनामी नक्सली है और उसने पीरटांड थाने में शुक्रवार दोपहर सरेंडर किया। उसके सरेंडर करने से दोनों जिलों की पुलिस ने राहत की सांस ली है।

इस नक्सली (Naxalites) के खिलाफ सुकमा और बीजापुर जिले की सीमा में सुरक्षाबलों पर हमला करने का आरोप है। ये नक्सली बीते महीने घटी उस नक्सली घटना में शामिल था।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ चलाए जा रहे अभियानों का असर दिख रहा है। बस्तर (Bastar) में नक्सलियों को उन्हीं की भाषा में जवाब देने से उनमें खौफ आ गया है।

आदिवासी, नक्सलियों (Naxalites)  की बातों में आ जाते हैं और उनके मददगार बन जाते हैं। नक्सलियों की ताकत जंगलों के भीतर और पिछड़े इलाकों में रहने वाले लोग ही हैं, जिनसे उन्हें सबसे अधिक सहयोग मिलता है।

खबर है कि कोरोना की वजह से कई नक्सलियों (Naxalites) की हालत गंभीर है। ऐसे में इन संक्रमित नक्सलियों ने पुलिस के सामने सरेंडर करना शुरू कर दिया है।

Naxalites: इस शख्स का नाम नरेश दास है और वह बीते साल नक्सलवाद को छोड़कर मुख्यधारा में लौट आए थे। अब वह मुख्यमंत्री अनुदान पर ऑटो चलाते हैं।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा (Dantewada) जिले में 5 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण (Naxalites Surrender) कर दिया है।

छत्तीसगढ़ में एक नक्सली (Naxalite) बेटे ने मदर्स डे पर अपनी मां को जो तोहफा दिया, उसकी चर्चा हर तरफ हो रही है।

बच्चों के स्कूल बंद हैं। ऐसे में जो बच्चे स्कूल बंद होने की वजह से अपने घर वापस लौटे हैं, नक्सली (Naxalites) उन्हें अपने संगठन में भर्ती कर रहे हैं।

18 फरवरी 2021 को आमाबेड़ा में सीपीआई माओवादी कार्यकर्ता DVCM सोमजी IED प्लांट कर रहा था। इसी दौरान वह खुद के द्वारा लगाई जा रही आईईडी की चपेट में आ गया और मारा गया।

एसपी पल्लव ने बताया कि एक अन्य घटना में जिले के अरनपुर थाना क्षेत्र में सुरक्षाबलों ने एक नक्सली कोसा वारसे (25) को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

यह भी पढ़ें