नक्सलवाद का सच

अदालत में इस नक्सली के खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं मिले लिहाजा वो कोर्ट से छूट गया। लेकिन इसके बावजूद भी यह हार्डकोर नक्सली खुली हवा में सांस नहीं ले सकेगा।

पश्चिमी सिंहभूम के उपायुक्त ने गृह कार्य एवं आपदा प्रबंधन विभाग को पत्र लिखकर 12 नक्सलियों (Naxali) के विरुद्ध देशद्रोह का मुकदमा चलाने की अनुमति मांगी है।

छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में सरकार की आत्मसमर्पण नीतियों से प्रभावित होकर एक इनामी नक्सली कमांडर (Naxali Commander) ने सरेंडर कर दिया।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में नक्सलियों (Naxalites) ने अलग-अलग जगहों पर दो ग्रामीणों की हत्या कर दी। पुलिस ने 29 फरवरी को यह जानकारी दी।

मोहब्बत वो एहसास है जिसमें दुनिया बदल देने की ताकत है। इसमें कठोर से कठोर मन को भी पिघलाने की क्षमता है। यह कहानी ऐसी ही एक मोहब्बत की है।

महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में कुख्यात इनामी नक्सली विलास उर्फ दसरू कोल्हा (Naxali Vilas Kolha) ने गढ़चिरौली पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया।

एनआईए (NIA) ने झारखंड में अब तक सबसे ज्यादा टीपीसी ( TPC) के उग्रवादियों पर ही कार्रवाई की है। यह संगठन लोगों में खौफ कायम कर करोड़ों रुपए की लेवी की वसूल चुका है।

कभी पुलिस को अपना दुश्मन मानने वाली महिला आज अपनी नवजात बच्ची को पुलिस अफसर बनाने का सपना देख रही है। वह चाहती है कि उसकी बच्ची बड़ी होकर संविधान की रक्षा करे और देशहित में काम करे।

बिहार के बांका जिले की पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली। 24 फरवरी को हार्डकोर नक्सली (Naxali) युगल राय ने एसपी अरविंद कुमार गुप्ता के सामने आत्मसमर्पण कर दिया।

झारखंड के विकास में नक्सलियों द्वारा लेवी की वसूली एक बड़ी बाधा है। राज्य में सक्रिय अलग-अलग उग्रवादी और नक्सली संगठन (Naxal Organizations) विकास योजनाओं में लेवी की मांग करते रहे हैं।

ओडिशा (Odisha) के मलकानगिरी पुलिस (Police) को एक बड़ी कामयाबी मिली है। पुलिस के सामने विधायक की हत्या में शामिल नक्सली (Naxalite) ने सरेंडर कर दिया है।

झारखंड के गुमला, लोहरदगा, लातेहार और चतरा के सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में और जंगली इलाकों में नक्सलियों (Naxalites) द्वारा जगह-जगह बिछाए गए लैंडमाइंस विस्फोट से कई लोगों की मौत हो चुकी है।

सुरक्षाबलों ने नक्सल प्रभावित इलाके (Naxal Affected Area) में शिक्षा के लिए एक सराहनीय कदम उठाया है। दरअसल, छत्तीसगढ़ के नक्सल ग्रस्त इलाके कवर्धा के 6 गांवों में 4 साल से सरकारी स्कूल बंद थे।

बिहार के गया जिले में सशस्त्र सीमा बल (SSB) 29वीं वाहिनी बीबी पेसरा कैंप में भाकपा माओवादी के हार्डकोर नक्सली (Naxali) अखिलेश यादव ने 1 फरवरी को आत्मसमर्पण कर दिया।

छत्तीसगढ़ में चल रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के दौरान 31 जनवरी को लोकतंत्र की शक्ति देखने को मिली। दंतेवाड़ा के धुर नक्सल प्रभावित इलाका कटेकल्याण में पंचायत चुनाव के दूसरे चरण के दौरान 12 नक्सलियों (Naxals) ने सरेंडर कर दिया।

ओडिशा के सुंदरगढ़ जिले में एक खूंखार नक्सली (Naxali) ने सरेंडर कर दिया। जिले के राउरकेला पुलिस के सामने संबलपुर-देवगढ-सुंदरगढ़ (एसडीएस) डिवीजन में सक्रिय नक्सली पोगा सुरीन उर्फ सुमन ने 30 जनवरी को आत्मसमर्पण कर दिया।

नक्सल प्रभावित इलाके की लड़कियां अब बास्केटबॉल में अपना दमखम दिखाएंगी। इन लड़कियों ने अपनी मेहनत और लगन से यह साबित कर दिया है कि चाहे कितनी भी बाधाएं आएं, दृढ़ इच्छाशक्ति से हर मुश्किल को पार किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें