नक्सलवाद का सच

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा में 'लोन वर्राटू' अभियान (घर लौटो अभियान) रंग ला रहा है। इसके तहत लगातार नक्सलियों (Naxalites) का सरेंडर हो गया। जिले में एक नक्सली कमांडर (Naxali Commander) ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक पेडा बयालु मंडल के कोंडुरू गांव में नक्सलियों ने एक लैंड माइन ब्लास्ट किया।

इस हमले में 2 अधिकारियों समेत 32 साल के अनुज सैनी शहीद हुए। मीडिया से बात करते हुए अनुज के पिता चंद्र किरण सैनी ने बताया कि सोमवार रात करीब 12 बजे नक्सली हमला हुआ था।

किरंदुल थाने और डीआरजी को ये जानकारी मिली थी कि नक्सलियों ने हिरोली-पिरनार के रास्ते में विस्फोटक लगाया है, जिसके बाद सर्च ऑपरेशन चलाया गया और तीनों आईईडी विस्फोटक को बरामद कर लिया गया।

टीपीसी के कई उग्रवादी देखते ही देखते अमीर बन गए हैं। इन लोगों का साथ परियोजना के कुछ आला अधिकारी और ट्रांसपोटर्स दे रहे हैं। ये सभी NIA के रडार में हैं।

नक्सली संगठन अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर हमले की प्लानिंग कर रहा था। पुलिस को इसकी सूचना मिल गई। जिसके बाद नक्सलियों के साथ मुठभेड़ हुई।

दशमी का बड़ा भाई अभी भी नक्सलियों (Naxali) के बहकावे में जंगलों की खाक छान रहा है। दशमी ने अपने बड़े भाई से अपील किया है कि वो भी हिंसा का रास्ता छोड़कर मुख्यधारा में लौट आए।

एसपी के मुताबिक नक्सली के पास से एक पिस्टल (लोडेड), एके-47 के ग्यारह कारतूस और संगठन की रसीद वगैरह बरामद हुई है।

दंतेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव ने बताया कि भैरमगड एरिया कमेटी में बीते 10 सालों में जितनी भी बड़ी घटनाएं हुई हैं, उसमें भल्ला शामिल था।

1 अगस्त को गश्त के दौरान पुलिस के एक दल ने जिले के भैरमगढ़ थाना क्षेत्र के तिंडोडी गांव से नक्सली (Naxal) महेश यादव को गिरफ्तार कर लिया।

नक्सलियों के सबसे मजबूत कहे जाने वाले दरभा डिवीजन कमेटी के दो शीर्ष नक्सली नेता विनोद और देवा के बीच चल रही खींचतान की खबरें बाहर आई हैं।

झारखंड और बिहार की पुलिस लगातार अपनी सीमा में संयुक्त रुप से अभियान चला रही है, जिसमें कई नक्सली पुलिस की रडार पर हैं।

नक्सलियों (Naxalites) द्वारा शहीदी सप्ताह की घोषणा के साथ ही सुरक्षा बल भी पूरी तरह सक्रिय हो गए हैं। अलर्ट जारी कर नक्सलियों की हर मूवमेंट पर नजर रखी जा रही है। जवान नक्सल प्रभावित अंदरूनी इलाकों तक गश्ती पर पहुंच रहे हैं।

एडीजी ने आशंका जताई है कि शहीदी सप्ताह के दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के साथ-साथ सुरक्षाकर्मी और पुलिस पिकेट पर भी नक्सली हमला हो सकता है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के धुर नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा (Dantewada) जिले में सुरक्षाबलों ने एक इनामी महिला नक्सली को गिरफ्तार कर लिया।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित बीजापुर (Bijapur) जिले से सुरक्षाबलों ने एक नक्सली (Naxali) को गिरफ्तार किया। यह गिरफ्तारी 30 जुलाई को हुई। गिरफ्तार नक्सली (Naxalites) अपहरण, पुलिस पार्टी पर हमला और हत्या जैसी वारदातों में शामिल रहा है।

खूंखार नक्सली (Naxals) इस वक्त शहीद सप्ताह मना रहे हैं। नक्सलियों ने 28 जुलाई से लेकर 3 अगस्त तक शहीद सप्ताह मनाए जाने का ऐलान किया था।

यह भी पढ़ें