सुर्खियां

सेना की राष्ट्रीय राइफल्स के जवानों ने घेराबंदी की। सुरक्षाबलों ने यहां एक मकान में छिपे हुए आतंकियों को सरेंडर करने के लिए कहा। जिसके बाद आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी।

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम के मोहम्मदपोरा इलाके में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने एक आतंकी को मार गिराया।

पिछले पांच वर्षों में सिर्फ 40 स्थानीय युवक आतंकी संगठनों से जुड़े हैं। इससे पहले के वर्षों की तुलना में यह संख्या आधी रह गई है। उन्होंने बताया कि जम्मू-कश्मीर में अभी 275 आतंकवादियों के सक्रिय होने की सूचना है।

सर्च के दौरान पुलिस दल ने नक्सली कोपाराम कडती उर्फ वीर सिंह को मासोड़ी गांव के पास से गिरफ्तार किया। गिरफ्तार माओवादी साल 2007 से नक्सली संगठन में जुड़कर कार्य कर रहा था।

′औलाद′, ′एक ही रास्ता′, ′साधना′, ′धूल का फूल′, ′वचन, दुश्मन′, ′अभिमान′ और ′संतान′ आदि हिट फिल्मों की कथा-पटकथा या संवाद के लेखक पंडित जी का नाम फिल्मों के पोस्टर पर छपता था।

Rituparno Ghosh Death Anniversary: उनकी फिल्मों में यह ताकत है जो दर्शकों को फिल्म से पूरी तरह बांध देती है। उन्होंने समाज में प्रतिबंधित विषयों पर भी अपनी फिल्मों के जरिये खुल कर विचार रखे।

पहली बार जब पंडित युगल किशोर शुक्ल ने 'उदन्त मार्तण्ड' को रूप दिया, तब किसी ने भी यह कल्पना नहीं की थी कि हिन्दी पत्रकारिता इतना लम्बा सफर तय करेगी। युगल किशोर शुक्ल ने काफ़ी दिनों तक 'उदन्त मार्तण्ड' को चलाया और पत्रकारिता करते रहे।

'लाल आतंक' की शरण में आते ही प्रमाणिक अब पहले से ज्यादा खूंखार हो गया। उसने सीआरपीएफ के अफसर हमला किया और कांग्रेस के चांडिल प्रखंड अध्यक्ष को भी मारा।

झारखंड में नक्सलियों ने बड़ी घटना को अंजाम दिया। 28 मई की सुबह राज्य के सरायकेला खरसावां में माओवादियों ने धमाका किया। इसमें पुलिस और 209 कोबरा के 26 जवान घायल हो गए।

डीआरजी और पुलिस के जवान किरंदुल थाना क्षेत्र में हिलोरी के जंगलों में सर्च ऑपरेशन पर निकले थे। इसी दौरान उनका सामना नक्सलियों से हो गया। नक्सलियों ने गोलीबारी शुरू कर दी। जवाब में जवानों ने भी फायरिंग की। इस मुठभेड़ में एक नक्सली मारा गया।

दूसरे विश्वयुद्ध के बाद खस्ताहाल और विभाजित भारत का नवनिर्माण करना कोई आसान काम नहीं था, लेकिन पंचवर्षीय योजना उनकी दूरदृष्टि का ही परिणाम था, जिसके नतीजे सालों बाद मिल रहे हैं।

कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने के बाद सुनील दत्त की नौकरी एक एड एजेंसी में लगी। यहीं से उन्होंने रेडियो सीलोन में रेडियो जॉकी बनने का रास्ता पकड़ा। रेडियो जॉकी के रूप में वो काफी पसंद किए गए।

2010 में हुए तीन आतंकियों के एनकाउंटर के बाद भड़की हिंसा की घटना ने उस पर गहरा असर डाला था और इसी के चलते उसने पढ़ाई छोड़ी और यह कदम उठाया।

एंटी नक्सल ऑपरेशंन्स को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए प्रदेश सरकार ने सुरक्षाबलों को आधुनिक हथियारों और नई तकनीकि के वाहनों से लैस करने की तैयारी कर रही है।

जाकिर मूसा 2013 में आतंक की दुनिया में आया था। मूसा हिजबुल कमांडर बुरहान वानी का करीबी था। बुरहान वानी के मारे जाने के बाद घाटी में जाकिर मूसा ही आतंक का चेहरा था।

आज हिमालय की बेटी का जन्मदिन है। पद्म विभूषण, पद्मश्री और अर्जुन अवॉर्ड से सम्मानित पाल ऐसा करने वाली भारत की पहली महिला पर्वतारोही हैं। यह उपलब्धि उन्होंने 30 साल की उम्र में हासिल की थी।

देशभर में लोग लोकसभा चुनाव के नतीजों को जानने में व्यस्त थे। उसी वक्त सुरक्षाबल के जवान मुस्तैदी से अपनी ड्यूटी निभा रहे थे। इसी दौरान छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में उन्हें बड़ी सफलता हाथ लगी।

यह भी पढ़ें