Kargil War: कारगिल की लड़ाई क्यों थी सबसे अलग? ये है वजह

दुश्मन के सामने हम किसी भी तरह कमजोर साबित न हो इसके लिए पूरा दमखम लगा दिया गया था। कारगिल की पहाड़ी विश्व की सबसे ऊंची पहाड़ियों में गिनी जाती है।

Kargil War

Kargil War 1999: दुश्मन के सामने हम किसी भी तरह कमजोर साबित न हो इसके लिए पूरा दमखम लगा दिया गया था। कारगिल की पहाड़ी विश्व की सबसे ऊंची पहाड़ियों में गिनी जाती है।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 में कारगिल युद्ध (Kargil War) लड़ा गया था। इस युद्ध में पाकिस्तान को बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा था। यह भारतीय सेना (Indian Army) का पाकिस्तानी सेना के खिलाफ लगातार चौथी जीत थी। इससे पहले भी भारतीय सेना पाकिस्तान के खिलाफ अपना पराक्रम दिखा चुकी है।

कारगिल की लड़ाई अपने आप में पूरे विश्व में ‘अनूठी जंग’ कही जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि एक ओर घुसपैठिए पहाड़ियों की चोटी पर कब्जा जमाए बैठे थे, वहीं दूसरी ओर भारतीय वीर सपूत नीचे समतल मैदानों में थे या यूं कहें कि भारतीय सेना, पाकिस्तानी घुसपैठियों के लिए बहुत ही आसान टारगेट थी। पर यहीं भारतीय सेना ने अपनी शौर्य गाथा लिखी।

जिस इलाके में कभी आइसक्रीम और टॉफियां बेचीं, वहीं सब-इंस्पेक्टर के तौर पर मिली पहली पोस्टिंग

इस लड़ाई की शुरुआत तब हुई थी जब पाकिस्तानी सैनिकों ने कारगिल की ऊंची पहाड़ियों पर घुसपैठ करके अपने ठिकाने बना लिए थे। भारतीय सेना ने कई किलोमीटर चलकर दुश्मनों के ठिकानों पर पहुंचकर जवाबी हमला बोला था। हमारे जवान रात में पहाड़ों पर चढ़ाई करते थे ताकि दुश्मन उनपर हमला न कर दें।

इस दौरान ऊंचाई पर हथियारों को भी ढोया गया था। दुश्मन के सामने हम किसी भी तरह कमजोर साबित न हो इसके लिए पूरा दमखम लगा दिया गया था। कारगिल की पहाड़ी विश्व की सबसे ऊंची पहाड़ियों में गिनी जाती है।

ये भी देखें-

यहां पर सर्दी में कड़ाके की ठंड पड़ती है, इस वजह से दोनों देश अपनी-अपनी सेनाएं पीछे बुला लेते हैं। पर 1999 में पाक सेना ने ऐसा नहीं किया था। नतीजन, युद्ध हुआ और पाकिस्तान को शर्मनाक हार झेलनी पड़ी थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें