1971 के युद्ध का इतिहास बताता है लोंगेवाला वॉर मेमोरियल, जानें क्या है इसमें खास

इस वॉर मेमोरियल में आपको पता लगेगा कि कैसे युद्ध में भारतीय सैनिक बंकर से लेकर बंकर तक योजनाबद्ध तरीके से भागते हुए दुश्मन सेना पर हथगोले फेंकते थे।

1971 युद्ध में शामिल हुए सैनिकों और शहीदों की याद में जैसलमेर में वॉर मेमोरियल बनाया गया है।

इस वॉर मेमोरियल में आपको पता लगेगा कि कैसे युद्ध में भारतीय सैनिक बंकर से लेकर बंकर तक योजनाबद्ध तरीके से भागते हुए दुश्मन सेना पर हथगोले फेंकते थे।

भारत पाकिस्तान (Pakistan) के बीच 1971 में युद्ध लड़ा गया था। इस युद्ध में भारत की जीत हुई थी। युद्ध में पाकिस्तान को भारी नुकसान पहुंचा था। हार के बाद पाकिस्तान से अलग होकर बांग्लादेश विश्व के नक्शे पर एक अलग देश के रूप में उभरा। इस युद्ध में भारतीय सेना के बलिदान और शौर्य को हमेशा याद रखा जाएगा। युद्ध में शामिल हुए सैनिकों और शहीदों की याद में जैसलमेर में वॉर मेमोरियल बनाया गया है। इसका नाम ‘लोंगेवाला वॉर मेमोरियल’ है।

वॉर मेमोरियल में आपको युद्ध में दोनों देशों की सैन्य स्थिति के बारे में पता लगेगा। जैसे कि युद्ध में 120 भारतीय जवानों के सामने और 2 से 3 हजार पाक सैनिक थे। इसके साथ ही आपको यहां पर यह भी पता चलेगा कि युद्ध में 40-45 टैंक और 4 हंटर लड़ाकू विमान भी तैनात थे।

ये भी पढ़ें- Captain Sandeep Shankla: जांबाजी की वह दास्तां जो बन गई मिसाल, आज ही के दिन हुई थी शहादत

लोंगेवाला पोस्‍ट पर तैनात 120 भारतीय सैनिकों ने 40-45 टैंकों के साथ आए 3000 पाकिस्‍तानी सैनिकों को छठी का दूध याद दिला दिया था। यहां आपको इस बात की जानकारी मिलेगी कि कैसे पाकिस्तान योजना बनाए हुए था जिसमें लोंगेवाला में बेस बनाकर जैसलमेर पर कब्जा किया जाए। यहां आपको टैंक, हथियार और उन वीरों के बारे में जानकारी मिलेगी जो कि युद्ध के दौरान शहीद हो गए थे।

इस वॉर मेमोरियल में आपको पता लगेगा कि कैसे युद्ध में भारतीय सैनिक बंकर से लेकर बंकर तक योजनाबद्ध तरीके से भागते हुए दुश्मन सेना पर हथगोले फेंकते थे। और टैंकों को तहस नहस कर देते थे। युद्ध में पाकिस्तान द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले टैंक चीन में निर्मित थे।

ये भी देखें- 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें