भारतीय सेना के लिए बंकर की है बेहद अहम भूमिका, इस तरह बचाता है दुश्मन से जान

बंकरों के माध्यम से किसी भी तरह की आपात स्थिति से निपटने के लिए सेना अपना मोर्चा संभाल सकती है। दुश्मनों की संदिग्ध हरकतों पर इसके जरिए तीखी नजर रखी जाती है।

terrorists

Indian Army: बंकरों के माध्यम से किसी भी तरह की आपात स्थिति से निपटने के लिए सेना अपना मोर्चा संभाल सकती है। दुश्मनों की संदिग्ध हरकतों पर इसके जरिए तीखी नजर रखी जाती है।

भारतीय सेना के जवान सीमा पर दिन रात मौत का डटकर सामना करते हैं। एलओसी या एलएसी पर कब दुश्मन की गोली आकर सीने या सिर को चीर जाए इसका कुछ पता नहीं होता। ऐसे में सुरक्षित स्थान के जरिए पहरा देना जरूरी होता है। सीमा पर कई ऐसे इलाके हैं जहां सेना के जवान बंकर बनाकर सुरक्षा व्यवस्था में लगे रहते हैं।

सेना के जवानों के लिए बंकर की बेहद अहम भूमिका होती है क्योंकि इसमें लगी बोरियां दुश्मन की गोलियां ठंडी कर देती हैं। यानी की दुश्मन की बंदूक से निकली गोली को रेत की बोरियां ठंडा कर देती हैं।

भारत-बांग्लादेश की दोस्ती का प्रतीक शहीद स्मारक को हटाने पर विवाद, 1971 में शहीद भारतीय जवानों की याद में बना था स्मारक

जब भी दुश्मन बंकर पर हमला करता है तो ये बोरियां ही सुरक्षा कवच का काम करती हैं। रेत की बोरी से टकराते ही गोलियों की स्पीड झटके के साथ कम हो जाती है और वह बोरी को कुछ इंच तक ही भेद पाती है।

इन बंकरों के माध्यम से किसी भी तरह की आपात स्थिति से निपटने के लिए सेना अपना मोर्चा संभाल सकती है। दुश्मनों की संदिग्ध हरकतों पर इसके जरिए तीखी नजर रखी जाती है।

इसके लिए बंकर में मौजूद जवानों को 20 किलोमीटर दूर दुश्मन को देखने और उस पर सटीक निशाना लगाने वाली स्नाइपर, रॉकेट लॉन्चर, मशीन गन और अन्य हथियारों एवं उपकरणों से लैस किया जाता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें