सियाचिन ग्लेशियर विश्व की सबसे ऊंची युद्धभूमि, यहां है इंडियन आर्मी का कब्जा

भारतीय सेना वक्त के साथ-साथ तेजी से अत्याधुनिक हुई है। इसका अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि हमारी तीनों सेनाएं किसी भी वक्त सुपरपॉवर बनने की दिशा में अग्रसर चीन के खिलाफ भी मोर्चा संभाल सकती है।

Siachen Glacier

Siachen

Indian Army: विश्व की सबसी ऊंची युद्धभूमि सियाचिन ग्लेशियर (Siachen Glacier) पर हमारी सेना का कब्जा है। दुश्मन यहां कई बार अपना धौंस दिखाता रहा है।

भारतीय सेना का नाम सुनते ही दुश्मन थर-थर कांप उठते हैं। दुश्मन देशों को भारतीय सेना कई बार नेस्तनाबुद कर चुकी है। भारतीय सेना वक्त के साथ-साथ तेजी से अत्याधुनिक हुई है। इसका अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि हमारी तीनों सेनाएं किसी भी वक्त सुपरपॉवर बनने की दिशा में अग्रसर चीन के खिलाफ भी मोर्चा संभाल सकती है।

भारतीय सेना को लेकर कई रोचक तथ्य हैं जिन्हें हर भारतीय को जानना चाहिए। इनमें से एक रोचक तथ्य यह है कि विश्व की सबसी ऊंची युद्धभूमि सियाचिन ग्लेशियर (Siachen Glacier) पर हमारी सेना का कब्जा है। दुश्मन यहां कई बार अपना धौंस दिखाता रहा है लेकिन भारतीय वीर सपूतों ने हर बार इन देशों को नेस्तनाबुद किया है। सियाचिन के एक तरफ पाकिस्तान की सीमा है तो दूसरी तरफ चीन की सीमा अक्साई चीन इस इलाके को छूती है।

भारत-चीन सीमा पर हो चुकी है कई बार भिड़ंत, पर इस वजह से फायरिंग नहीं करते हमारे वीर सपूत

समुद्र के 5000 मीटर ऊपर स्थित सियाचिन ग्लेशियर (Siachen Glacier) में ठंड में तापमान शून्य से 50 डिग्री सेल्सियस तक नीचे पहुंच जाता है, ऐसे में सेना के जवानों का यहां रहना सबसे बड़ी चुनौती होता है। हर चीज यहां पर बर्फ हो जाती है। गर्म पानी चंद सेकेंड में बर्फ का गोला बन जाता है।

ये भी देखें-

सरकार सैनिकों को स्पेशल सूट मुहैया करवाती है जो इस ठंड को सह सकने में कारगर होते हैं। इसके साथ ही ठंड के चलते सैनिकों की त्वचा पर घाव न पड़े इसके लिए भी पाउडर मुहैया करवाया जाता है। बता दें कि भारतीय सेना के बारे में एक और रोचक तथ्य यह है कि अमेरिका और चीन के बाद हमारी सेना विश्व की तीसरी सबसे बड़ा मिलिट्री कंटिंजेंट है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App