Jammu kashmir: अंतिम सांस तक लड़ते रहे रामवीर सिंह, शोपियां में आतंकियों को छूटे पसीने

मुठभेड़ के दौरान आतंकियों की एक गोली यूपी के मथुरा जिले के रहने वाले रामवीर सिंह को आकर लगी और वो शहीद हो गए। कहा जा रहा है कि इस गोलीबारी में रामवीर सिंह ने भी कई आतंकियों को अपनी गोली का शिकार बनाया।

Army jawan martyred, jammu and kashmir, terrorists, encounter, security forces, encounter in shopian, indian army, family of martyrs, आतंकी हमला, शहीद रामवीर, जम्मू-कश्मीर, मुठभेड़, भारतीय सेना

शोपियां में आतंकियों से लड़ते हुए दी शहादत।

सभी जानते हैं कि सीमा पर आतंकवादियों की नापाक हरकत ने यहां आसपास गांव में रहने वाले लोगों का जीना मुहाल कर रखा है। पाकिस्तानी सेना के समर्थन से चलने वाले आतंकी संगठन के गुर्गे अक्सर सीमा पर सीजफायर का उल्लंघन करते हैं और कभी-कभी इसका भारी खामियाजा भी भुगतना पड़ता है। लेकिन यह भी सच है कि अब भारतीय सेना खुलकर इन आतंकियों से लोहा ले रही है। यह सेना के पराक्रम और साहस की ही देन है कि घाटी में अब धीरे-धीरे बड़े आतंकियों का सफाया होने लगा है। जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में कुछ दिनों पहले आतंकियों के साथ हुए एक भीषण मुठभेड़ में शहीद हुए जवान मथुरा लाल ने भी इस मुठभेड़ में आतंकियों के दांत खट्टे कर दिए।

रामवीर सिंह मूल रूप से उत्तर प्रदेश के कोसीकलां के गांव हुलवाना के रहने वाले थे। रामवीर सिंह इन दिनों जम्मू कश्मीर के शोपियां में तैनात थे। बीते गुरुवार को पांडुन्सन इलाके में कुछ आतंकियों के छिपे होने की खबर सेना के जवानों को मिली थी। चूकि यह सूचना देर रात मिली थी लिहाजा सेना ने मौका रहते ही पूरे इलाके को घेर लिया। आतंकियों की साजिश नेस्तेनाबूत करने के लिए सेना ने पांडुसन इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया। लेकिन सेना की कार्रवाई से घबराए आतंकियों ने अचानक सेना पर हमला बोल दिया। यहां दोनों ही तरफ से कई राउंड फायरिंग हुई।

Article 370: पैदाइश से लेकर अब तक का इतिहास, इसलिए खत्म होना था जरूरी…

मुठभेड़ के दौरान आतंकियों की एक गोली यूपी के मथुरा जिले के रहने वाले रामवीर सिंह को आकर लगी और वो शहीद हो गए। कहा जा रहा है कि इस गोलीबारी में रामवीर सिंह ने भी कई आतंकियों को अपनी गोली का शिकार बनाया। इस मुठभेड़ में रामवीर ने आतंकियों को पीछे हटने के लिए मजबूर कर दिया था। मुठभेड़ में रामवीर के गोलियां लगीं और वह दुश्मनों से लड़ते लड़ते देश के लिए शहीद हो गया। सेना के अफसरों ने शुक्रवार की तड़के करीब पांच बजे रामवीर के चचेरे भाई महेश को फोन करके इसकी जानकारी दी।

घर में रामवीर के शहीद होने की सूचना मिलते ही कोहराम मच गया। रामवीर का शव जब उनके गांव पहुंचा तो उनके घरवालों की आंखें नम हो गईं। कई लोगों ने रामवीर को नम आंखों से अंतिम विदाई दी।

Article 370: विरोध में पीडीपी सांसद ने फाड़े कपड़े, कई दलों का मिला समर्थन

यह भी पढ़ें