पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI भारत में देती है आतंकवाद को बढ़ावा, सेना हर मोर्चे पर रहती है अलर्ट

पाकिस्तान और भारत के बीच अबतक चार युद्ध लड़े जा चुके हैं। हर बार पाकिस्तान को बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा है। पाकिस्तान हर बार हार कर फिर से भारत के सामने लड़ता है और हारता है।

ISI

File Photo

Pakistan ISI: भारत हमेशा से यह कहता रहा है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) भारत के खिलाफ आतंकवाद (Terrorism) को बढ़ावा देती है। 

पाकिस्तान और भारत के बीच अबतक चार युद्ध लड़े जा चुके हैं। हर बार पाकिस्तान को बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा है। पाकिस्तान हर बार हार कर फिर से भारत के सामने लड़ता है और हारता है। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) भारत के खिलाफ तमाम तरह के षड्यंत्र रचती आई है।

पाकिस्तान की यह एजेंसी दुनियाभर में अपने हरकतों की वजह से बदनाम है। भारत हमेशा से पाकिस्तान पर यह कहता रहा है कि इसकी आईएसआई ISI) भारत के खिलाफ में आतंकवाद को बढ़ावा देती है। ऐसा अबतक हुई कई खोजबीन में पता भी लगा है और भारत के पास ढेरों सबूत भी हैं।

बिहार: कभी बंजर पड़ी थी जमीन, आज गया के इस नक्सल प्रभावित इलाके में लहलहा रही है खेती

हालांकि, भारतीय सेना (Indian Army) और खुफिया एजेंसियों की सतर्कता की वजह से आईएसआई और उसके आतंकी संगठन भारत में किसी भी हमले को अंजाम देने में नाकामयाब होते रहे हैं। भारतीय सेना हर मोर्चे पर अलर्ट रहती है ताकि पाक की इस खुफिया एजेंसी के मंसूबों पर पूरी तरह से पानी फिर जाए।

पाकिस्तान की इसी एजेंसी 1999 कारगिल युद्ध (Kargil War) में कश्मीर हड़पने के लिए ऑपरेशन जिब्राल्टर की साजिश रची थी। बता दें कि आईएसआई दुश्मन देश के जवानों को बुरी तरह से प्रताड़ित करती है।

ये भी देखें-

दुनियाभर में जहां कहीं भी इस्लामी आतंकियों का हमला होता है, उसके तार कहीं न कहीं से आईएसआई से जुड़े पाए जाते हैं। ये एजेंसी जवानों के अलावा जेलों में बंद भारतीय कैदियों के साथ भी अमानवीय व्यवहार करती आई है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें