कारगिल युद्ध: जब पाकिस्तानी सैनिकों ने कारगिल की ऊंची पहाड़ियों पर घुसपैठ करके बना लिए अपने ठिकाने

Kargil War 1999: पाकिस्तानी घुसपैठिए कारगिल के कुछ चरवाहों को अपनी गिरफ्त में लेने की प्लानिंग कर रहे थे लेकिन उन्होंने किसी कारण ऐसा नहीं किया।

Kargil War 1999

भारत-पाक सीमा से सटे कारगिल क्षेत्रों में सर्दियों कड़ाके की ठंड पड़ती है।

Kargil War 1999: पाकिस्तानी घुसपैठिए कारगिल के कुछ चरवाहों को अपनी गिरफ्त में लेने की प्लानिंग कर रहे थे, लेकिन उन्होंने किसी कारण ऐसा नहीं किया।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 में कारगिल युद्ध लड़ा गया था। इस युद्ध में भारत के पैरों तले तब जमीन खिसक गई थी जब पाकिस्तान की घुसपैठ का अचानक पता लगा था। करीब 23 साल पहले कारगिल की पहाड़ियों पर भारत और पाकिस्तान के बीच लड़ाई हुई थी। जंग की शुरुआत तब हुई थी जब पाकिस्तानी सैनिकों ने कारगिल की ऊंची पहाड़ियों पर घुसपैठ करके अपने ठिकाने बना लिए थे।

पाकिस्तान ने कारगिल की सामरिक रूप से महत्वपूर्ण जगहों पर कब्जा कर लिया। भारतीय सेना तो इस दौरान पीछे हट गई थी लेकिन पाक घुसपैठ की जानकारी एक चरवाहे ने भारतीय सेना को दी थी। चरवाहे ने बताया था कि पाकिस्तानी सेना भारी संख्या में कारगिल में घुस चुकी है। दरअसल चरवाहा अपने खोए हुए यार्क को तलाश रहा था, इसी दौरान उसने पाक सेना को देखा था।

छत्तीसगढ़: नक्सली इलाकों में दिख रहा लोन वर्राटू अभियान का असर, इनामी सहित 4 नक्सलियों ने हथियार छोड़ किया सरेंडर

कब्जा करने करने के बाद पाकिस्तानी घुसपैठिए कारगिल के कुछ चरवाहों को अपनी गिरफ्त में लेने की प्लानिंग कर रहे थे लेकिन उन्होंने किसी कारण ऐसा नहीं किया। चौंकाने वाली बात यह थी कि भारत के राजनीतिक नेतृत्व और खुफिया विभागों को इस घुसपैठ की भनक तक नहीं लगी थी।

ऐसा इसलिए क्योंकि भारत-पाक सीमा से सटे कारगिल क्षेत्रों में सर्दियों में कड़ाके की ठंड पड़ती है। दोनों देश हमेशा की तरह इस दौरान अपनी सेनाएं पीछे हटा लेते हैं। पर 1999 में भारत ने तो ऐसा किया पर पाकिस्तान ने ऐसा नहीं किया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें