Kargil War: भारत के लिए मुश्किल थे हालात, भारी तादाद में हथियार लेकर तैनात थे दुश्मन

कारगिल की लड़ाई दुनिया की सबसे ऊंचाई पर लड़ा गया युद्ध था। युद्ध करीब 40 दिन चला। जैसा की हर युद्ध में देखने को मिलता है दोनों देशों को नुकसान झेलना पड़ा था।

Kargil War

फाइल फोटो।

Kargil War: कारगिल की लड़ाई दुनिया की सबसे ऊंचाई पर लड़ा गया युद्ध था। युद्ध करीब 40 दिन चला, लेकिन जैसा की हर युद्ध में देखने को मिलता है, दोनों देशों को इसका नुकसान झेलना पड़ा।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 में लड़े गए कारगिल युद्ध (Kargil War) में भारतीय सेना (Indian Army) के लिए हालात बेहद मुश्किल भरे थे। इस युद्ध में हमारे वीर सपूतों ने दुश्मनों को हर मोर्चे पर विफल साबित किया था। वह भी तब जबकि पाकिस्तान पहले दिन से ही इस युद्ध में आगे था। पाकिस्तान, कारगिल के ऊंचाई वाले क्षेत्रों पर कब्जा जमा कर बैठा था।

भारतीय सेना चढ़ाई करते हुए दुश्मन तक पहुंच रही थी। चढ़ाई मुश्किल भरी तो थी ही, लेकिन उससे बड़ी चुनौती थी, दुश्मन की नजरों से बचकर बंकरों तक पहुंचना। दुश्मन भारी तादाद में मशीनगन, तोपें, एंटी एयरक्राफ्ट गन और मिसाइल लेकर तैनात थे। चढ़ाई के दौरान कई जवान घायल हुए तो, कई शहीद।

केरल: भारतीय नौसेना की महिला पायलटों के पहले बैच की तस्वीरें आईं सामने, यहां देखें

जिन जवानों ने बंकरों तक पहुंचने में सफलता पाई, वे दुश्मनों पर कहर बनकर टूट पड़ते थे। दुश्मन कब्जा जमाए बैठे थे और लगातार बमबारी  कर रहे थे और गोलियां चला रहे थे। चोटी पर चढ़कर दुश्मन के ठिकानों को बरबाद करना ही सेना का पहला लक्ष्य था।

कारगिल की लड़ाई (Kargil War) दुनिया की सबसे ऊंचाई पर लड़ा गया युद्ध था। युद्ध करीब 40 दिन चला लेकिन जैसा हर युद्ध में देखने को मिलता है, दोनों देशों को इसका नुकसान झेलना पड़ा। पाकिस्तान को भारी नुकसान हुआ था।

ये भी देखें-

सेना ने मिग-27 के जरिए युद्ध का आगाज किया गया था। वायुसेना (Indian Air Force) के मजबूत इरादों की वजह से भी दुश्मनों को बड़ा नुकसान झेलना पड़ा था और ऊंचाई पर होने के बावजूद उनका मनोबल पूरी तरह से टूट कर बिखर गया था। 26 जुलाई, 1999 को कारगिल जंग में विजय की घोषणा हुई। इस युद्ध में भारतीय सेना के 527 जवान शहीद हुए थे, तो 1300 से ज्यादा घायल हुए थे। 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें