करगिल शहीद के परिवार को 20 साल बाद भी उम्मीद, सरकार पूरा करेगी अपना वादा

20 साल पहले करगिल युद्ध में देहरादून का एक लाल रमेश थापा शहीद हो गया था। करगिल युद्ध में देहरादून के गलज्वाड़ी के रहने वाले शहीद रमेश थापा के परिवार और उनके आश्रितों के लिए सरकार ने उस समय कितनी ही घोषणाएं की थीं।

About kargil vijay diwas, article on kargil vijay diwas, date of kargil vijay diwas, how to celebrate kargil vijay diwas, kargil day, kargil diwas, kargil diwas 2019, martyr ramesh thapa, kargil diwas date, kargil diwas day, kargil diwas images, kargil diwas in hindi, kargil diwas poster, kargil tribute song, kargil victory day, kargil vijay, kargil vijay day, kargil vijay divas, kargil vijay divas 2018, kargil vijay diwas, kargil vijay diwas celebration, kargil war, kargil war diwas, tiger hill kargil, oparation safed sagar, indian air force, Dehradun martyr, sirf sach, sirfsach.in

शहीद रमेश थापा के परिवार के लिए की गई सरकार की घोषणाएं सालों बाद भी पूरी नहीं हो पाई हैं। फाइल फोटो।

देश के लिए मर मिटने वाले वीर जवान जब शहीद होते हैं तो उनकी शहादत पर गर्व किया जाता है। उनकी वीर-गाथाएं गाई जाती हैं। उनके परिवार को सांत्वना दिया जाता है। पर, कुछ समय बाद धीरे-धीरे हम उनकी यादों को भूलने लगते हैं। उनके पीछे उनके परिवार की सुध लेने वाला कोई नहीं होता। 20 साल पहले करगिल युद्ध में देहरादून का एक लाल रमेश थापा शहीद हो गया था। करगिल युद्ध में देहरादून के गलज्वाड़ी के रहने वाले शहीद रमेश थापा के परिवार और उनके आश्रितों के लिए सरकार ने उस समय कितनी ही घोषणाएं की थीं। लेकिन सरकार की घोषणाएं 20 साल बाद भी धरातल पर नहीं उतर पाई हैं।

शहीद रमेश थापा के नाम पर एक सड़क ‘गद्दूवाला मार्ग’ बनाई गई थी। पर उसका भी हाल खराब हो चुका है। शहर से सात किलोमीटर दूर गलज्वाड़ी गांव के रमेश थापा करगिल में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए थे। इनकी शहादत पर पूरे शहर में कई दिनों तक उन्हों श्रद्धांजलि दी गई थी, कैंडल मार्च निकाले गए थे। सरकार ने इनके आश्रितों के लिए नौकरी, पेट्रोल पंप और जमीन देने की घोषणा की। लेकिन, समय बीतने के साथ ही सब कुछ ठंडा पड़ने लगा। सरकार की घोषणाएं आज तक पूरी नहीं हुईं।

घोषणाओं के पूरा दोने का इंतजार करते-करते परिवार वाले भी अब थक गए हैं। पर आज भी उन्हें एक उम्मीद है कि सरकार उनकी मदद करेगी। शहीद रमेश थापा की रिश्तेदार राखी गुरुंग ने बताया कि सालों बाद भी सरकार की घोषणाएं पूरी नहीं हो पाई हैं। इस संबंध में उन्होंने कई बार विधायक से भी बात की। लेकिन समस्या का समाधान आज तक नहीं हुआ। रमेश थापा के भाई शंकर थापा भी सेना में थे। वे हाल ही में सेना से सेवानिवृत्त हुए हैं।

पढ़ें: सुकमा में नक्सली कर रहे बड़े हमले की तैयारी, अलर्ट जारी

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App