Kargil War: ऊंची पहाड़ियों पर कब्जा कर भारत को हराना चाहता था पाकिस्तान, प्लान हुआ बुरी तरह फेल

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 में लड़ा गया कारगिल युद्ध (Kargil War) भारतीय सेना (Indian Army) के शौर्य गाथा को बयां करता है। युद्ध में हमारे वीर सपूतों ने पाकिस्तान को हर मोर्चे पर फेल कर दिया था।

Kargil War

फाइल फोटो।

Kargil War : पाकिस्तानी सेना कारगिल के सामरिक रूप से महत्वपूर्ण क्षेत्रों पर कब्जा जमा कर बैठ गई थी। लेकिन हमारे वीर सपूतों ने पाकिस्तान को हराकर ही दम लिया था।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 में लड़ा गया कारगिल युद्ध (Kargil War) भारतीय सेना (Indian Army) के शौर्य गाथा को बयां करता है। युद्ध में हमारे वीर सपूतों ने पाकिस्तान को हर मोर्चे पर फेल कर दिया था। पाकिस्तानी सेना जिस मंसूबे को लेकर जंग के मैदान में उतरी थी उसे पूरा नहीं होने दिया गया।

पहाड़ी क्षेत्रों में होने वाली लड़ाई में एक बात तय होती है। अगर आप उंचाई पर हैं, तो नीचे से आ रहे दस सैनिकों को एक साथ संभाल सकते हैं। पाकिस्तानी सेना कारगिल के सामरिक रूप से महत्वपूर्ण क्षेत्रों पर कब्जा जमा कर बैठ गई थी। लेकिन हमारे वीर सपूतों ने पाकिस्तान को हराकर ही दम लिया था।

Nagrota Encounter: मारे गए आतंकियों के मोबाईल से हुआ बड़ा खुलासा, भारत ने पाकिस्तान के उच्चायुक्त को किया तलब

इस युद्ध (Kargil War) में भारतीय सेना (Indian Army) ने पाकिस्तान के खिलाफ 60 दिनों तक मोर्चा संभाला था। यानी यह जंग करीब 60 दिनों तक लड़ी गई थी। 2 महीने दोनों देशों के जवानों ने एक-दूसरे का आमना-सामना किया था। पाकिस्तानी सेना को हराकर हमारे वीर सपूतों ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की साख मजबूत की थी।

पाकिस्तान को इस युद्ध (Kargil War) में भारी नुकसान हुआ था। 26 जुलाई को इस युद्ध का अंत हुआ था। हालांकि जीत की घोषणा तत्कालीन प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजेपयी ने 14 जुलाई को की थी। आधिकारिक तौर पर युद्ध 26 जुलाई को खत्म हुआ था।

ये भी देखें-

पाकिस्तानी सेना के तीन हजार से ज्यादा सैनिक मारे गए थे, मगर दुश्मन देश मानता है कि उसके करीब 357 सैनिक ही मारे गए थे। वह आज तक इस आंकड़े पर ही डटा हुआ है।  बता दें कि यह युद्ध (Kargil War) 18 हजार फीट की ऊंचाई पर लड़ा गया था और सेना ने बड़ी ही चालाकी से दुश्मन को विफल किया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें