पाकिस्तानी सीमा के पास भारत ने दिखाई अपनी ताकत, 40 हजार जवान कर रहे युद्धाभ्यास

भारतीय थल सेना (Indian Army) की सबसे ताकतवर 21 स्ट्राइक कोर पाकिस्तान की सीमा के पास युद्धाभ्यास कर रही है। इस युद्धाभ्यास में भारतीय सेना (Indian Army) के 40 हजार जवान अभ्यास कर रहे हैं। इसका नाम ऑपरेशन ‘सिंधु सुदर्शन चक्र’ (Operation Sindhu Sudarshan Chakra) है। 13 नवंबर को शुरू हुआ यह अभ्यास 18 नवंबर तक चलेगा।

Indian Army
भारतीय सेना का युद्धाभ्यास (फाइल फोटो)

भारतीय सेना (Indian Army) पहली बार इस युद्धाभ्यास में शूटर ग्रिड सेंसर (Shooter grid sensor) का प्रयोग कर रही है। करीब 3 महीने से चल रहे इस युद्धाभ्यास के दौरान सेना के जवान चंद घंटों में दुश्मन के इलाकों पर कब्जा करने का पराक्रम दिखाएंगे। अभ्यास पाकिस्तान की सीमा से सटे बाड़मेर जिले में चल रहा है। ‘सिंधु सुदर्शन चक्र’ में लगातार 12 घंटे तक युद्ध लड़ने की क्षमता को मैदान में परखा जाएगा। युद्धाभ्यास के दौरान मैकेनाइज्ड फोर्स पहली बार शूटर ग्रिड सेंसर का प्रयोग करने जा रही है। इसके तहत युद्ध क्षेत्र में इजराइली यूएवी हेरोन, हेलिकॉप्टर और सैटेलाइट से टारगेट को ग्रिड की तस्वीरें भेजी जाएंगी।

युद्धाभ्यास में आर्मर्ड, मैकेनाइज्ड इन्फेंट्री, इन्फेंट्री, आर्टिलरी, आर्मी एयर डिफेंस, आर्मी एविएशन के अटैक हेलिकॉप्टर, वायु सेना के संसाधनों और स्पेशल फोर्स का खास तौर पर प्रदर्शन किया जाएगा। इसके बाद भारतीय सेना के दक्षिणी कमान के अन्तर्गत भोपाल स्थित स्ट्राइक कोर सुदर्शन चक्र वाहिनी के साथ पोकरण फील्ड फायरिंग रेंज में 29 नवंबर से युद्धाभ्यास किया जाएगा। यह युद्धाभ्यास 29 नवंबर से 4 दिसंबर तक आयोजित होगा। इसमें भी 40 हजार सैनिक शामिल होंगे।

पढ़ें: जवानों की साहस और वीरता को सलाम, पूरे देश को इन पर गर्व है: अमित शाह

इसमें टैंक व इन्फेंट्री कॉम्बेक्ट व्हीकल्स से युक्त पूरे यंत्रीकृत संरचनाओं से अभ्यास किया जाएगा। अभ्यास में टी-90 टैंकों, बीएमपी के साथ पहली बार युद्धाभ्यास में शामिल हो रही अत्याधुनिक भारत निर्मित- k-9 वज्र और 130 एमएम गन, 105 एमएम गन आदि के माध्यम से जबरदस्त मारक क्षमता के साथ दुश्मन के काल्पनिक ठिकानों को नेस्तनाबूत करने का अभ्यास किया जाएगा। एडवांस लाइट हेलीकॉप्टर ‘रूद्र’ का भी प्रदर्शन होगा। गौरतलब है कि पिछले दिनों सेना (Indian Army) ने भारत-पाकिस्तान अंतररसष्ट्रीय बॉर्डर से सटे जैसलमेर जिले में युद्धाभ्यास किया था। यह युद्धाभ्यास पोकरण फील्ड फायरिंग रेंज में दो दिन तक चला था।

उससे पहले रेगिस्तान के धोरों में वॉर गेम एक्सरसाइज का आयोजन किया गया था। वॉर गेम एक्सरसाइज में भारत सहित 8 देशों के सैनिकों ने अंतरराष्ट्रीय आर्मी स्काउट मास्टर्स प्रतियोगिता में अपने युद्ध कौशल का प्रदर्शन कर अपनी क्षमता का लोहा मनवाया था। इस प्रतियोगिता के दूसरे चरण में भारतीय सेना (Indian Army) ने चीन सहित 7 देशों को पछाड़ा था। भारतीय सैनिक इस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर रहे थे, जबकि चीन 7वें नंबर पर रहा था।

पढ़ें: जानिए Indian Army के उन रेजीमेंट के बारे में जिनके नाम से ही कांपते हैं दुश्मन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here