भारतीय सेनाएं करती हैं युद्धाभ्यास, जानें इस दौरान जवान क्या करते हैं

Indian Army: जवानों को शत्रु पर फायर अटैक, दुश्मन के इलाके में उतरना, कई तरह की जांबाज गतिविधियों आदि के बारे में सिखाया जाता है।

Army Recruitment Rally

Indian Army: जवानों को शत्रु पर फायर अटैक, दुश्मन के इलाके में उतरना, कई तरह की जांबाज गतिविधियों आदि के बारे में सिखाया जाता है।

भारत ने आखिरी युद्ध 1999 में पाकिस्तान के खिलाफ लड़ा था। इसके बाद अबतक सेना (Army) का सामना जंग के मैदान में किसी देश से नहीं हुआ है। हालांकि, कई बार ऐसे मौके जरूर आए हैं जब युद्ध के हालात पैदा हो गए हों। चीन और पाकिस्तान से सेनाओं का टकराव होता रहा है।

कई बार परिस्थितियां ऐसी आ जाती हैं कि कभी भी जंग छिड़ सकती है। युद्ध हो या न हो लेकिन हमारे जवान समय-समय पर युद्धाभ्यास जरूर करते हैं। युद्धाभ्यास ही वह कला है जिसके जरिए जवानों की स्किल पर लगातार काम किया जाता है ताकि जंग के दौरान किसी भी तरह दुश्मन हावी न हो।

सूबेदार भंवरलाल भाकर: खून से लथपथ था शरीर फिर भी झुका नहीं सिर, फहराई विजय पताका

इसके जरिए एक तरह से सेना (Army) के जवानों को असली जंग का अनुभव करवाया जाता है। उन्हें शत्रु पर फायर अटैक, दुश्मन के इलाके में उतरना, कई तरह की जांबाज गतिविधियों आदि के बारे में सिखाया जाता है। सैनिकों को हैलीकॉप्टर से युद्धभूमि पर उतरने का प्रशिक्षण दिया जाता है।

ये भी देखें-

इसके अलावा दुश्मन के इलाके पर पहुंचने के बाद क्या करना है और क्या नहीं, इसकी भी बारीकी से जानकारी दी जाती है। समुद्र में टकराव होने पर क्या-क्या गलतियां नहीं करनी इसपर भी विशेष जोर दिया जाता है। तीनों सेनाओं को समय-समय पर युद्धाभ्यास के जरिए ही ट्रेनिंग दी जाती है। इसमें भारी संख्या में जवान हिस्सा लेते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें