India Pakistan War 1971: …जब भारतीय सेना ने पूर्वी पाकिस्तान पर बनाई मजबूत पकड़

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 में भीषण युद्ध लड़ा गया था। इस युद्ध में भारतीय सेना ने ऐसा पराक्रम दिखाया था जिसे यादकर दुश्मन देश आज भी थर-थर कांप उठता होगा।

India Pakistan War 1971

फाइल फोटो।

India Pakistan War 1971: युद्ध के दौरान पूर्वी पाकिस्तान पर मतबूत पकड़ बनाने के बाद भी इंडियन एयरफोर्स (Indian Air Force) ने पाकिस्तान पर हमले जारी रखे थे। पाकिस्तान को किसी भी कीमत पर भारत पर हावी नहीं होने दिया गया था।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 में भीषण युद्ध लड़ा गया था। इस युद्ध में भारतीय सेना (Indian Army) ने ऐसा पराक्रम दिखाया था, जिसे यादकर दुश्मन देश आज भी थर्र-थर्र कांप उठता होगा। युद्ध में पाकिस्तान को बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा था। सेना ने युद्ध में पूर्वी पाकिस्तान पर तेजी से मजबूत पकड़ बनाई थी।

पूर्वी पाकिस्तान (अब बांग्लादेश) की आजादी के लिए ही यह युद्ध लड़ा गया था। 1971 के पहले बांलादेश, पाकिस्तान का एक प्रांत था। 1971 में 16 दिसंबर के दिन बांग्लादेश नाम के देश का औपचारिक गठन हुआ। पाकिस्तान को भारत के खिलाफ लड़ने और अपने ही प्रांत में अत्याचार फैलाने से भारी नुकसान हुआ।

War of 1971: भारत ने शरणार्थियों के लिए खोल दी थी पूर्वी भारत की सीमाएं! सेना ने ऐसे लिया था PaK से बदला

युद्ध (India Pakistan War 1971) के दौरान पूर्वी पाकिस्तान पर मतबूत पकड़ बनाने के बाद भी इंडियन एयरफोर्स ने पाकिस्तान पर हमले जारी रखे थे। पाकिस्तान को किसी भी कीमत पर भारत पर हावी नहीं होने दिया गया था।

सेना दिन में विमान-भेदी तोपों, रडार-भेदी विमानों और लड़ाकू जेट विमानों का इस्तेमाल करती थी। पाकिस्तान भारत की आक्रमक कार्रवाई से इस कदर डर गया था कि उसकी वायुसेना ने अपने एयर बेसेज की आंतरिक सुरक्षा और रक्षात्मक गश्ती दल की संख्या को बढ़ा दिया था।

ये भी देखें-

इंडियन एयरफोर्स द्वारा पाक वायुसेना पर पाकिस्तान में उनके एयर बेसेज पर हमले युद्ध के अंत तक जारी रहे थे। वास्तविक लक्ष्य से दुश्मनों को दूर रखने के लिए दुश्मनों के ठिकानों के निकट पैरा-ड्रॉपिंग की गई थी। पाकिस्तानी वायुसेना की क्षमता इस युद्ध में पूरी दुनिया ने देखी थी, जो कि फिसड्डी साबित हुई थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें