India Pakistan War 1971: मौत का इंतजार कर रहे थे पाकिस्तानी सैनिक! फिर भारतीय सेना ने किया ये

युद्ध तकरीबन 12 दिन चला था लेकिन इस दौरान पाकिस्तान को भारी नुकसान झेलना पड़ा था। अगर पाकिस्तान सरेंडर नहीं करता तो उसे और ज्यादा नुकसान झेलना पड़ सकता था।

India Pakistan War 1971

फाइल फोटो।

India Pakistan War 1971: भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 के युद्ध में पाक सेना को करारी शिकस्त झेलनी पड़ी थी। यह युद्ध (War) तकरीबन 12 दिन चला था, लेकिन इस दौरान पाकिस्तान (Pakistan) को भारी नुकसान झेलना पड़ा था। 

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 के युद्ध में पाक सेना को करारी शिकस्त झेलनी पड़ी थी। भारतीय सेना दुश्मनों पर कहर बनकर टूटी थी। युद्ध के बाद ही बांग्लादेश का एक नए देश के तौर पर उदय हुआ था। भारत ने पूर्वी पाकिस्तान को पाकिस्तान से आजाद करवाया था. जिसके बाद पूर्वी पाकिस्तान का नाम बांग्लादेश पड़ा।

पाक सेना (Pakistani Army) के जवान इस युद्ध (India Pakistan War 1971) के दौरान एक वक्त तो सिर्फ मौत का इंतजार कर रहे थे। पाकिस्तानी सैनिकों को आभास हो गया था कि वे हार चुके हैं और पाकिस्तानी सेना उन्हें कभी भी मौत के घाट उतार सकती है। भारतीय सैनिकों ने युद्ध में अदम्य साहस का परिचय दिया।

विंग कमांडर दिलीप पारुलकर को पाकिस्तानी सेना ने दी थीं घोर यातनाएं, जेल से भागने में हुए थे कामयाब

दरअसल, भारतीय सेना (Indian Army) के जवान तेजी के साथ हर इलाके को फतह करते हुए आगे बढ़ते जा रहे थे। पर दुश्मन को भी जीने का हक है कि भावना से काम करते हुए 93 हजार सैनिकों से सिर्फ हथियार डालने को कहा गया था। भारत के सामने पाकिस्तान के 93 हजार सैनिकों ने घुटने टेके थे। भारत चाहता तो पाकिस्तान को भारी नुकसान पहुंचा सकता था।

ये भी देखें-

यह युद्ध तकरीबन 12 दिन चला था लेकिन इस दौरान पाकिस्तान को भारी नुकसान झेलना पड़ा था। अगर पाकिस्तान सरेंडर नहीं करता तो उसे और ज्यादा नुकसान झेलना पड़ सकता था। जब पाकिस्तानी सेना के 93 हजार सैनिकों ने आत्मसमर्पण किया तो उनका भी सम्मान रखा गया था। बता दें कि इस युद्ध के दौरान करीब 3,900 भारतीय जवान इस जंग में शहीद हुए और 9,851 जवान घायल हुए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें