कपड़ों में ग्रेनेड छिपाए आतंकी को पास से मारी थी गोली, शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा को मिल चुके हैं कई वीरता पुरस्कार

हंदवाड़ा में हुई मुठभेड़ में कर्नल आशुतोष शर्मा (Colonel Ashutosh Sharma) के अलावा मेजर अनुज सूद, नायक राजेश और लांस नायक दिनेश भी शहीद हो गए हैं। मुठभेड़ में जम्मू-कश्मीर पुलिस के उपनिरीक्षक शकील काजी भी शहीद हुए हैं।

Colonel Ashutosh Sharma

हंदवाड़ा एनकाउंटर में कर्नल आशुतोष शर्मा शहीद हो गए।

जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu-Kashmir) के हंदवाड़ा (Handwara) में 3 मई को सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में एक कर्नल, एक मेजर, एक पुलिस ऑफिसर समेत 5 जवान शहीद हो गए। एक घर में छिपे आतंकियों से आम नागरिकों को बचाने के प्रयास में ये जवान शहीद हुए। हालांकि, उन्होंने दो आतकंवादियों को मौत के घाट उतार दिया। एनकाउंटर में शहीद जवानों में कर्नल आशुतोष शर्मा (Colonel Ashutosh Sharma) का नाम भी शामिल है।

मिल चुका है सेना मेडल: ये पहला मौका नहीं था जब कर्नल आशुतोष शर्मा की आतंकियों से भिड़ंत हुई। इससे पहले भी वह कई बार आतंकियों से मुकाबला कर चुके थे। 21 राष्ट्रीय राइफल्स (21-RR) यूनिट के कमांडिंग ऑफिसर रहे कर्नल आशुतोष अपने आतंक रोधी अभियानों में साहस का परिचय देने के लिए दो बार वीरता पुरस्कार से नवाजे जा चुके हैं। कर्नल आशुतोष शर्मा (Colonel Ashutosh Sharma) को 2019 में ‘सेना मेडल’ से सम्मानित किया गया था।

जिस पुल से जाते थे डॉक्टर विस्फोट कर उसे उड़ाया, कोरोना के बीच नक्सलियों की बड़ी करतूत

बचाई थी साथियों की जान: कर्नल आशुतोष शर्मा (Colonel Ashutosh Sharma) इससे पहले गार्ड रेजिमेंट में थे और घाटी में तैनात थे। कुछ समय पहले ही उन्होंने आतंकियों से अपने कई साथियों की जान बचाई थी। बताया जाता है कि एक आतंकी जवानों की ओर बढ़ रहा था। वह अपने कपड़ों में ग्रेनेड छिपाए हुए था। तब शर्मा ने बहादुरी का परिचय दिया था और आतंकी को काफी नजदीक से गोली मारकर अपने जवानों की जान बचाई थी।

पीछ छोड़ गए पत्नी और 12 साल की बेटी: कर्नल आशुतोष शर्मा (Colonel Ashutosh Sharma) मूल रूप से उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले के रहने वाले थे। वह खानपुर थाना क्षेत्र के गांव परवाना में जन्मे थे। उनके शहीद होने की खबर मिलते ही पूरे गांव में शोक की लहर दौड़ गई। बता दें, कर्नल शर्मा का परिवार फिलहाल जयपुर में रहता है। बुलंदशहर के गांव परवाना में रहने वाले शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा 15 साल पहले माता-पिता के साथ जयपुर में जाकर बस गए थे। उन्होंने इंटर तक की पढ़ाई बुलंदशहर के डीएवी इंटर कॉलेज से की थी। शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा अपने पीछे पत्नी और 12 साल की बेटी को छोड़ गए हैं।

हंदवाड़ा में हुई मुठभेड़: गौरतलब है कि 3 मई को हंदवाड़ा में हुई मुठभेड़ में कर्नल आशुतोष शर्मा (Colonel Ashutosh Sharma) के अलावा मेजर अनुज सूद, नायक राजेश और लांस नायक दिनेश भी शहीद हो गए हैं। मुठभेड़ में जम्मू-कश्मीर पुलिस के उपनिरीक्षक शकील काजी भी शहीद हुए हैं। बता दें कि उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में हंदवाड़ा के चांजमुल्ला इलाके में 2 मई को एक मकान में छिपे आतंकवादियों ने कुछ नागरिकों को बंधक बना लिया था। जिसके बाद कर्नल शर्मा नागरिकों को मुक्त कराने वाली टीम का नेतृत्व कर रहे थे।

यह भी पढ़ें